Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - Printable Version

+- Sex Baba (//mypamm.ru)
+-- Forum: Indian Stories (//mypamm.ru/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (//mypamm.ru/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा (/Thread-antarvasna-%E0%A4%98%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A4%9C%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A5%8B%E0%A4%B8-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%A1%E0%A4%AC%E0%A4%B2-%E0%A4%AE%E0%A4%9C%E0%A4%BE)



Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - sexstories - 06-27-2017

घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा

पुणे में औंध के बंगला सोसाइटी में, कविता शर्मा अपने बंगले की खिड़की पर खडी हो कर गली में बाहर का नज़ारा देख रहीं थीं. कविता एक बहुत की खूबसूरत औरत थीं - गोरा रंग, लम्बा कद, काले लम्बे बाल, . उनका बदन एक संपूर्ण भारतीय नारी की तरह भरा पूरा था. कविता एक जिन्दा दिल इंसान थीं जिन्हें जिन्दगी जी भर के जीना पसंद था. कविता इस घर में अपने हैण्डसम पति विवेक और अपनी बेटी तृषा के साथ रहती थी. तृषा यूनिवर्सिटी में फाइनल इयर की क्षात्र थीं. कविता एक गृहणी थीं. विवेक एक सॉफ्टवेयर कंपनी में ऊंची पोस्ट पर थे. कविता को ये बिलकुल अंदाजा नहीं था की उसकी जिन्दगी में काफी कुछ नया होने वाला है.

कविता के सामने वाला घर कई महीनों से खाली था. उसके पुराने मालिक उनका मोहल्ला छोड़ कर दिल्ली चले गया थे. आज उस घर के सामने एक बड़ा सा ट्रक खड़ा था. उसके ट्रक के बगल में एक BMW खडी थी जिसमें मुंबई का नंबर था. लगता था मुंबई से कोई पुणे मूव हो रहा था. पुराने पडोसी काफी खडूस थे. मोहल्ले में कोई उनसे खुश नहीं था. कविता मन ही मन उम्मीद कर रही थी कि नए पडोसी अच्छे लोग होंगे जो सब से मिलना जुलना पसंद करते होंगे.

कविता ने देखा की उस परिवार से तीन लोगों थे. पति पत्नी शायद 40 प्लस की उम्र में होंगे. उनकी बेटी कविता की अपनी बेटी तृषा की उम्र की लग रही थी.

कविता ने अपने पति विवेक को पुकारा, "हनी, जल्दी आओ. हमारे नए पडोसी आ चुके हैं"

विवेक लगभग दौड़ता हुआ आया और बाहर का नज़ारा देखते ही उसकी बांछे खिल उठीं. बाहर एक हैण्डसम आदमी की बहुत ही सेक्सी बीवी अपने बॉब कट हेयर स्टाइल में एकदम कातिल हसीना लग रही थी. जैसे जैसे वो चलती थी, उसकी चून्चियां उसकी टी-शर्ट में इधर से उधर हिलती थीं. इसी बीच विवेक की नज़रों में उनकी कमसिन जवानी वाली बेटी आई. विवेक का तो लंड उसके पाजामें के अन्दर खड़ा होने लग गया. नए पड़ोसियों की बेटी ने लो-कट टी-शर्ट पहन रखी थी. इसके कारण उसके आधे मम्मे एकदम साफ़ दिखाई पड़ रह थे. उसके मम्मे उसके माँ की भांति सुडौल थे जो एक नज़र में किसी को भी दीवाना बना सकते थे. उसने बहुत छोटे से शॉर्ट्स पहन रखे थे जिससे उसके गोर और सुडौल नितंब दिखाई पद रहे थे.

विवेक सारा नज़ारा अपनी पत्नी कविता ने पीछे खड़ा हो कर देख रहा था. विवेक ने पीछे से कविता को अपने बाहीं में भर लिया. उसके हाथ कविता के दोनों चून्चियों पर रेंगने लगे. कविता मुस्कराई और उसने अपनी गुन्दाज़ चूतडों को विवेक के खड़े लंड पर रगड़ना शुरू कर दिया. इससे विवेक का खड़ा लंड कविता की गांड की दरार में गड़ने लगा.

कविता ने धीरे से हँसते हुए पूंछा, "डार्लिंग! तुम्हारा लंड किसे देख के खड़ा हो गया?"

विवेक बोला, "दोनों को देख कर. तुमने देखा की उनकी लडकी ने किस तरह के कपडे पहने हैं"?

"वो बहुत हॉट है न? जरा सोचो अपनी तृषा अगर ऐसे कपडे पहने तो?" कविता बोली.

विवेक के हाथ अब कविता के ब्लाउज के अन्दर थे. वो उसकी ब्रा का आगे का हुक खोल रहा था. विवेक कविता की चून्चियों को अपने हाहों में भर रहा था और धीरे मसल रहा था. विवेक को अपनी चून्चियों के साथ खेलने के अनुभव से कविता भी गर्म हो रही थी.

वो बोली, "विवेक डार्लिंग! आह.. मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. मुझे खुशी हुई की नए पड़ोसियों को देख कर तुम्हें "इतनी" खुशी हुई... अब मुझे तुम्हें यहाँ बुला कर उन्हें दिखाने का इनाम मिलेगा ना?"

विवेक कविता को जोर जोर से चूमने लगा. उसने कविता का गर्म बदन अपने ड्राइंग रूम में बिछे हुए कालीन पर खींच लिया. उसके हाथ अब कविता के स्कर्ट के अन्दर थे, उसकी उंगलिया उसकी गीली चूत पर रेंग रहीं थी. कविता ने अपनी टाँगे पूरी चौड़ी कर रखीं थीं. हालांकि दोनों के विवाह को 19 साल हो गए थे, पर दोनों आज भी ऐसे थे जैसे उनका विवाह 19 घंटे पहले ही हुआ है - जब भी उन्हें जरा भी मौका मिलता था, चुदाई वो जरूर करते थे.

विवेक ने अपना पजामा उतार के अपने लौंड़े को आज़ाद किया. कविता इस लंड को अपनी चूत में उतार के चोदने के लिए एकदम तैयार थी. कविता को चुदाई बहुत पसंद थी. वो वाकई चुदवाना चाहती थी. पर विवेक को चिढाने के लिए उसने बोला,

"विवेक डार्लिंग... नहीं...तृषा के घर आने का टाइम हो गया है. वो कभी भी आ सकती है"

विवेक ने अपना लौंडा कविता के चूत के मुहाने पर टिका के एक हल्का सा धक्का लगाया जिससे उसके लंड का सुपाडा कविता की गीली चूत में जा कर अटक सा गया. कविता ने अपनी गांड को ऊपर उठाया ताकि विवेक का पूरा का पूरा लंड उसकी चूत के अन्दर घुस सके. विवेक धीरे धीरे अपनी गांड हिलाने लगा ताकि वो अपनी पूरी तरह गरम चुकी बीवी की गांड के धक्कों को मैच कर सके और बोला,

"अच्छा को कि तृषा किसी दिन हमारी चुदाई देख ले...कभी कभी मुझे लगता है कि उसकी शुरुआत करने की उम्र भी अब हो गयी है."

कविता ने अपने पैर विवेक की गांड पर लपेट लिए और अपनी भरी आवाज में बोली,

"अरे गंदे आदमी...यहाँ तुम अपनी बीवी की ले रहा है और साथ में अपनी बेटी को चोदने के सपने देख रहा है...सुधर जा...."

विवेक ने कविता को दनादन फुल स्पीड में चोदना चालू कर दिया. उसका लंड कविता की चूत के गीलेपन और गहराइयों को महसूस कर रहा था. कविता आह आह कर रही थी और अपनी चूत को विवेक के लंड पर टाइट कर रही थी. विवेक को कविता की चूत की ये ट्रिक बेहद पसंद थी. विवेक ने धक्कों की रफ़्तार खूब तेज कर दी और वो कविता की चूत में झड़ने लगा. कविता ने अपने चूत में विवेक के लंड से उसके वीर्य की गरम धार महसूस की और वो भी झड़ गयी. कविता झड़ते हुए इतनी जोर से चिल्लाई की उसकी अवाज नए पड़ोसियों तक भी शायद पहुची हो. दोनों एक दुसरे से लिपटे हुए थोड़े देर पड़े रहे. फिर विवेक के अपना लौंडा उसकी चूत से निकाला उसे होठों पर चूमा और बाथरूम की तरफ चला गया.

कविता ने अपने कपडे ठीक किये और वापस खिड़की पर चली गयी ताकि देख सके की नए पड़ोसी अब क्या कर रहे हैं.

अब माँ और बेटी शायद घर के अन्दर थे और पिता बाहर खड़ा हुआ था. विवेक बाथरूम से लौट आया और उसने कविता के गर्दन के पीछे चूमा. कविता गर्दन के पीछे चूमा जाना बहती पसंद था. कविता ने अपनी भरी आवाज में बोला

"मज़ा आया विवेक. मुझे बहुत अच्छा लगता है जब तुम कहीं भी और कभी भी मेरी लेते हो.."

"ओह यस बेबी...इस शहर का सबसे टॉप माल तो तू है न..."
कहते हुए विवेक ने कविता की गांड पर एक हल्की चपत लगाईं.

कविता हंसने लगी और विवेक की बाहों में लिपटने लगी और बोली,

"थैंक्स डार्लिंग....मैं टॉप माल हूँ..और तुम्हारी बेटी तृषा? क्या तुम उसे हमारे खेल में जल्दी शामिल करने की सोच रहे हो?"

"पता नहीं बेबी....पर मुझे लगता है इस मामले में किसी तरह की जल्दबाजी ठीक नहीं है"

कविता को फिर से अपनी गांड में कुछ गड़ता हुआ सा महसूस हुआ. उसे विवेक का ये कभी भी तैयार रहने का अंदाज़ बड़ा भाता था. कविता जब विवेक से मिली थी तब तक सेक्स के प्रति उसका रुझान कुछ ख़ास नहीं था. पर विवेक के साथ बिठाये पहले 6 महीने में कविता एक ऐसी औरत में तब्दील हो गयी जिसे हमेशा सेक्स चाहिए. वो एक दुसरे के लिए एकदम खुली किताब थे. उन्हें एक दुसरे की पसंद, नापसंद, गंदी सेक्सी सोच सब बहुत अच्छी तरह से पता था. वो दोनों बहुत दिन से अपने १८ वर्ष की बेटी को अपने सेक्स के खेल में लाने की सोच रहे थे. जब भी मौका मिलता, वे दोनों इस विषय में चर्चा करना नहीं चूकते थे. कविता को ये अच्छी तरह से पता था की तृषा का काम तो होना ही है, आज नहीं तो कल ...

विवेक खिड़की से झांकता हुआ बोला,
"अपना नए पडोसी की बॉडी तो एकदम मस्त है और देखने में भी हैण्डसम है. उसे उतार लो शीशे में. किसी दिन जब मैं ऑफिस में हूँ, तुम उसे किसी बहाने से यहाँ बुला कर जम कर चोदना"

कविता आनंदातिरेक से भर उठी. उसकी एक और कल्पना थी की वो अपने पति विवेक के अलावा किसी गैर मर्द के साथ यौन सुख का आनंद ले. विवेक को ये बात पता थी. वो इस बारे में अक्सर बात करते थे. वो सेक्स करने के दौरान गैर मर्द वाला विषय अक्सर ले आते थे. ऐसा करने से इससे उन्हें चुदाई में अतिरिक्त आनंद मिलता था.

कविता और विवेक दोनों एक दुसरे के पसंद अच्छी तरह समझते थे. शायद यही उनके खुश वैवाहिक जीवन का राज था.

उनके पडोसी का सामन अब तक अनलोड हो चुका था. वो मूविंग ट्रक के ड्राईवर से कुछ बात कर रहा था. उसने एक पतली टी-शर्ट और टाइट शॉर्ट्स पहन रखे थे. विवेक ने कविता के कान के पीछे का हिस्सा चूमते हुए पूछा,

"कविता, उसके टाइट शॉर्ट्स में उसका सामान देख रही हो? मुझे पक्का पता है कि तुम उसका लौंडा मुंह में लेकर चूस डालोगी न? सोचो न उसका लंड तुम्हारे मुंह में अन्दर बाहर हो रहा है."

कविता गहरी साँसे ले कर कुछ बडबडायी. विवेक ने उसकी स्कर्ट उठा दी और अपना लौंडा उसकी गांड की दरार में रगड़ने लगा. कविता आगे झकी और अपने चूतडों को उठाया. विवेक ने अपना लंड कविता की चूत के छेद पर भिड़ाया और एक ही झटके में पूरा घुसेड़ दिया. कविता इस अचानक आक्रमण से सिहर सी उठी. उसकी सीत्कार से पूरा कमरा गूंज उठा.

कविता बोली,
"एस..विवेक सार्लिंग...चोदो मुझे...हाँ मुझे पडोसी का लंड बड़ा मजेदार दिख रहा है....मैं किसी दिन जब तुम ऑफिस में होगे ...उसे यहाँ बुलाऊंगी ...और जम के चुद्वाऊंगी.....आह...आह...पेलो...."

जल्दी ही विवेक कविता की चूत में झड गया. कविता को विवेक से चुदना और साथ में पडोसी को ले कर गंदी गंदी बात सुनने में बड़ा मज़ा आया.

विवेक ने अपना लंड कविता की चूत से निकाल लिया और ऊपर शावर लेने चला गया. ऊपर से बोला.
"कविता, तुम जा कर हेल्लो हाय कर के आ जाओ. और उन्हें शाम को बाद में चाय नाश्ते के लिए इनवाईट लेना"

बाद में, विवेक जब शावर से निकला, उसने देखा कविता वहां खडी हो कर कपडे उतार रही थी, नीचे ब्रा नहीं पहनी थी.

"ओह... तुम्हारी ब्रा को क्या हुआ जानेमन?" विवेक ने पूछा.

"वो मैंने पड़ोसियों से मिलने जाने के पहले उतार ली थी." कविता ने आँख मारते हुए बोला.

"ह्म्म्म..तो पड़ोसियों ने तुम्हारे शानदार मम्मे ठीक से ताके की नहीं" विवेक ने पूछा.

"शायद.... एनी वे, बंसल्स यानी की हमारे नए पडोसी शाम को 6:00 बजे आयेंगे. ओह विवेक वो बहुत अच्छा आदमी है...अब तुम देखते जाओ..वो जिस तरह से मुझे तक रहा था..मुझे लगता है की मेरा बरसों पुराना सेक्सी सपना पूरा होने वाला है..."
----------------------------------------------------------------------------------------------------

बंसल्स ठीक शाम 6:00 बजे पहुँच गए. सब ने एक दुसरे से परिचय किया. हर आदमी एक दुसरे को टाइट हग कर रहा था. तृषा वहां खड़े हो कर आश्चर्य से इन सब का मिलाप देख रही थी. कविता को जब गौरव ने हग किया तो वो इतना टाइट हग था की कविता उसका मोटा और लम्बा लंड अपने बदन पर गड़ता हुआ महसूस कर सकती थी. गौरव ने अपना हाथ कविता की गांड पर रखा और हलके से मसला. कविता ने घूम कर इधर उधर देखा - विवेक रेनू लगभग उसी हालत में थे. सायरा और तृषा पीछे के दरवाजे से निकल रहे थे. कविता ने गौरव से नज़रें मिलाईं और मुस्कराई और फुसफुसाई
"ध्यान से गौरव...जरा ध्यान से"
इस बात का मतलब था की मेरी गांड से खेलो जरूर पर तब जब कोई देख न रहा हो.

सब लोगों ने ड्राइंग रूम पार कर के पेटियो में प्रवेश किया. कविता ने वहां सैंडविच, समोसे, चाय वगैरह लगवा रखे थे. विवेक और कविता एक दुसरे के देख कर बीच बीच में मुस्करा लेते थे. विवेक ने ध्यान दिया की उनकी बेटी तृषा एक वहां अकेली लडकी थी जिसने ब्रा पहनी हुई थी.

सायरा हर बहाने से अपने शरीर की नुमाइश कर रही थी. उसे पता था की विवेक उसे देख देख के मजे ले रहा है.

गौरव की पत्नी रेनू काफी खुशनुमा स्वभाव की थी. तब वो झुक कर खाना अपनी प्लेट में डाल रही थी, उसके लो-कट ब्लाउज से उसके मम्मे दिखते थे. विवेक को यह देख कर बड़ा आनंद आ रहा था. वैसे रेनू और कविता दोनों की दिल्ली की लड़कियां थीं. शायद इसी लिए इस मामले में दोनों काफी खुले स्वभाव की थीं.

सब लोग नाश्ता खाते हुए एक दुसरे से बात कर रहे थे. सायरा और तृषा जल्दी से गायब हो गए. शायद वे दोनों तृषा के रूम में बैठ कर कुछ मूवी देख रहे थे. कविता गौरव को अन्दर ले कर गयी और उसे दिखाने लगी की उनका इम्पोर्टेड स्टोव कैसे काम करता है. रेनू विवेक को देख कर मुस्कुरा रही थी.

"सो ये मोहल्ला मजेदार है की नहीं विवेक. हम जब मुंबई से मूव हो रहे थे, तो वहां के पड़ोसियों को छोड़ने का बड़ा अफ़सोस था हमें. हम उनसे काफी करीब भी आ चुके थे"

रेनू ने पूछा.

विवेक मुस्कराने हुए रेनू के मस्त उठे हुए मम्मे देख रहा था. उसने उसे देखा और जवाब दिया,
"मुझे लगता है आप लोगों के आने से मोहल्ले में नयी रौनक आ जायेगी."

रेनू मुस्कराई और बोली,
"ये मुझे एक इनविटेशन जैसा लग रहा है विवेक. जब हम लोग थोडा सेटल हो जाएँ, तुम और कविता हमारे साथ एक शाम गुजारना."

विवेक बोला,
"ओह उसमें तो बड़ा मज़ा आएगा. हम लोग आपके मुंबई के पड़ोसियों वाले खेल भी खेल सकते हैं उस दिन"

"रियली? क्या तुम और कविता वो वाले खेल खेलना चाहोगे?" रेनू ने चहकते हुए पूंछा.
रेनू मनो ये पूँछ रही हो, "अरे विवेक तो तुम्हें मालूम भी है की हम कौन सा खेल खेल खेलते हैं वहां?"

विवेक मन ही मन मुस्कराते हुए मना रहा था कि भगवान् करे तुम उसी खेल की बात कर रही हो जिसमें उसे रेनू की स्कर्ट के अन्दर जाने का मौका मिले.



RE: Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - sexstories - 06-27-2017

वह आँख मारते हुए बोला

"रेनू, अगर तुम सिखाने को तैयार को वो खेल तो हम लोग सीखने में बड़े माहिर हैं"

ऐसी गर्म बातें सुनते ही विवेक का लंड न चाहते हुए भी थोडा टाइट हो गया. रेनू ने ये बात तुरंत नोटिस की. वो अपने होठों को होठों से चबाते हुए मुस्कराई और विवेक की तरफ थोडा झुक गयी. उसका बलाउज थोडा खुल सा गया और विवेक को उसकी गुलाबी और मस्त टाइट चून्चियों का मस्त नज़ारा दिख गया. उसने चून्चियों का अपनी आँखों से सराहते हुआ कहा,

"हमको लगता था की हमें दोस्ती करने में थोडा वक़्त लगेगा. पर तुम लोगों से मिल कर लगता है की मैं गलत था."

विवेक और रेनू की नज़रें एक दुसरे से मिलीं. विवेक किसी भी लडकी से इतनी जल्दी नहीं घुला मिला था. दोनों को बहुत अच्छी तरह से पता था की उनके दिमाग में क्या खिचड़ी पाक रही थी. विवेक रेनू को जल्दी से जल्दी चोदना चाह रहा था. रेनू को ये बात बहुत साफ़ दिखाई पद रही थी. और सबसे बड़ी बात तो ये थी की विवेक को रेनू के स्कीम बड़ी अच्छे तरह से पता थी.

विवेक मुस्कराया और बोला,
"मैं हमारे खेल खेलने का बेसब्री से इंतज़ार कर रजा हूँ."

"वो तो ठीक है मिस्टर विवेक, पर तुम्हारी बेगम कविता का क्या"
रेनू ने पूछा.
"मुझे लगता है की उसे भी ये खेल पसंद आएगा, हम दोनों ने कुछ करते हुए इस बारे में कई बारे में बात करी है", विवेक बोला.

"कुछ करते हुए ..हाँ.. पर क्या करते हुए?" रेनू ने उसे चिढाया.

"वही जो मैं तुम्हारे साथ करना चाह आहा हूँ." विवेक ने अंततः बोल ही डाला. उसने ये मान लिया था की गौरव को इससे कोई समस्या नहीं है.

रेनू ने विवेक के खड़े लंड उसके शॉर्ट्स के अन्दर देखा और एक सिहरन भरते हुए बोला,
"अजीब सी बात है. अभी अभी खाया है पर फिर से कुछ खाने का दिल करने लगा"

विवेक हंसने लगा और बोला,
"मुझे भी. क्या हमने कुछ और खाने के लिए तुम लोगों के सेटल होने का इंतज़ार करना पड़ेगा?"

"किस बात के लिए विवेक" रेनू ने उसे फिर से चिढाते हुए पूछा.

विवेक को रेनू का ये चिढाने का अंदाज़ बड़ा भाया. वो बोला

"वही बात जिसमें मुझे तुम्हारे सारे ओपेनिंग्स भरने का मौका मिले."
"ओह..बात तो ये है की मैं तो बिलकुल तैयार हूँ, अभी के अभी.. पर तुम कल सुबह हमारे यहाँ क्यों नहीं आ जाते...हम मिल कर अपने खेलों की प्रक्टिस जम कर करेंगे ..."

"किस वक़्त""

"दस बजे? हमारा दरवाजा खुला छोड़ देंगे. बस आ जाना. और विवेक साहब...मुझे तुम्हारी ओपेनिंग्स भरने वाला खेल बहुत पसंद...बहुत..."

बाहर अँधेरा होने लगा था. वो दोनों वहां बैठ कर बात कर रहे थे. दोनों खड़े होते और उन्हें हाथ एक दूसरे के शरीर पर चल रहे थे मानों एक दुसरे में कुछ ढूंढ रहे हों. विवेक के हाथ रेनू की फिट गांड पर रेंग रहे थे, वो बीच बीच में उसके ब्लाउज में हाथ डाल कर उसके मम्मे मसल लेता. तो कभी पैंटी मन डाल कर उसकी चूत में उंगली डाल देता. रेनू विवेक के शॉर्ट्स में हाथ डाले बैठी थी और उसके खड़े लंड को अपने मुलायम हाथों से सहला रही थी. ये सोच कर की कल ये लंड उसकी चूत में होगा उसे एक अजीब सी सिहरन सी हो रही थी.

इसी बीच किसी के आने की आवाज ने उन्हें चौंका दिया और वो दोनों एक दम से अलग दूर हो कर खड़े हो गए थे मानों उनके बीच कुछ हुआ ही न हो.

गौरव और कविता वापस आ गए थे. विवेक ने देखा की कविता उसकी तरफ देख कर मुस्करा रही थी. शायद वो सोच रही थी की उसके अनुपस्थिति में विवेक और रेनू के बीच क्या हुआ होगा. विवेक भी ये सोच रहा था की गौरव ने कविता के साथ क्या क्या किया होगा.

बाद में उस रात जब विवेक और कविता बिस्तर पर लेटे, कविता बड़ी गर्म थी. वो एक मिनट के लिए विवेक का लंड चूसती, तो दुसरे ही पल विवेक का मुंह अपनी चूत में भिड़ा के अन्दर खींच देती. फिर अगले ही पल वह विवेक को नीचे लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गयी और लगी उसे दनादान छोड़ने. कविता को खुद पता नहीं था की वो चोद चोद कर कितनी बार झडी. जब वो आखिरी बार झडी तो वो विवेक के ऊपर से जैसे साइड में बिस्तर पर कटे पेड़ की तरह गिर पडी.

"आज की चुदाई बड़ी ही मजेदार है मेरी जान."

विवेक थोडा ऊपर खिसका और कविता की चून्चियों से खेलते हुए बोला,
"मुझे लगता है की तुमने आज गौरव के साथ थोड़ी तो मौज की है पर जब तुम लौटे तो तुम्हारे चेहरे पर एक अजीब सा लुक था. हैं ना?"

कविता थोड़ी हिचकिचाई उसने अपने हाथों से विवेक का मुलायम पद गया लौंडा पकड़ लिया और उससे तब तक खेला जब तक की वो फिर से खड़ा बहिन हो गया. वो बोली,
"गौरव मुझे लाइन मार रहा था जोरों से. जब मैं उसे अपना स्टोव दिखा रही थी, वो पीछे खड़ा था. वो अपने हाथ मेरे हाथों के नीचे से ला कर मेरे मम्मे सहलाने लगा. और उसने मेरी गर्दन के पीछे किस भी किया."

"और तुमने क्या किया बेबी डॉल?"

"पहले तो मैं वह चुपचाप खडी रही. मुझे विशवास नहीं हो रहा था की ये सब वास्तव में हो रहा है..... फिर मैं वापस उसकी तरफ घूमी....तुम्हें तो पता ही है की मैं ऐसे समय ब्रा नहीं पहनती ताकि मेरे तगड़े मम्मों की जम के नुमाइश कर सकूं...उसने मेरे मम्मों को देखा..और बोला - कविता तुम्हारे मम्मे तो लाजवाब हैं."

"इसके पहले की मैं कुछ कहती वो मेरे दोनों मम्मे मसलने लगा ...मैं कुछ बुद्बुदाई..मुझे बड़ा आनंद आ रहा था....उसने मेरा ब्लाउज खोल दिया और मेरे मम्मों को एकदम नंगा कर के मसलने लगा ...थोड़ी देर में मैने उसका हाथ हटा दिया और ब्लाउज के बटन लगा दिए."

"तुम्हारा मन नहीं हुआ की गौरव को वहीं के वहीं चोद डालो कविता मेरी जान!"

कविता विवेक का लौंड़े को जोर से हिला रही थी. उसने विवेक की आँखों में ऑंखें डाल के बोला,

"विवेक, प्लीज बुरा मत मानना पर सच्चाई ये है की मेरा बस चलता तो उसे वहीँ पटक कर चोद देती उसे. अगर तुम दोनों दुसरे कमरे में नहीं होते तो भगवान् न जाने आज मैं क्या कर बैठती"

"ओह, मुझे मालूम है बेबीडॉल की तू क्या करती. तू अपनी टाँगे फैला कर गौरव का बड़ा और मोटा लौंडा अपनी प्यासी चूत में गपाक से डाल लेती ना? वैसे लगता है अब समय आ गया की हम अपना इतना पुराना सपना पूरा करें... गौरव और रीता स्वैप करने में पूरी तरह से इंटरेस्टेड हैं..तू क्या बोलती है मेरी जान? "

कविता पूरे उन्स्माद में भर चुकी थी. वो विवेक के ऊपर चढ़ गयी और उसका लौंडा अपनी खुली चूत में भर कर उसे जम के छोड़ने लगी. जैसे वो ऊपर ने नीचे आती उसकी आज़ाद चुन्चिया हवा में उछल जाती थीं. उन दोनों की ये चुदाई बड़ी की स्पेशल थी क्योंकि पहली बार वो अपनी चुदाई में औरों को सामिल करने के काफी करीब थे.

कविता ने अपनी हस्की आवाज में पूछा,
"क्या तुम पड़ोसियों के साथ ये सब करना चाहोगे? ओह..मुझे तो पहले से पता है की तुम रेनू को चोदना चाहते हो. मुझे पता है की तुम मेरे अलावा और औरतों को चोदते हो और मुझे इससे कोई समस्या नहीं रहे है. तुमने मुझे हमेशा खुश रखा है...पर पड़ोसियों के साथ का ये सब तुम्हें ठीक रहेगा विवेक? गौरव ने मुझे बोल ही रखा है की वो कहीं और मिल कर मेरी लेना चाहता है"

"ओह तो ये बात है बेबी डॉल! लगता है हमारे पडोसी समय बर्बाद करने में बिलकुल विश्वाश नहीं रखते हैं"

विवेक ने भी कविता को बताया कि इस दौरान रेनू और उसके बीच में क्या हुआ. विवेक कविता की चूत में अपना लंड उछल उछल कर डालने लगा. कविता को विवेक का लौंडा अपनी चूत के अन्दर फूलता हुआ सा लगा. विवेक धीमे धीमे से छोड़ने लगा और एक पल बाद ही जोर से चोदने लगता. पूरा कमरा चुदाई की मस्की गंध से भर सा गया. कविता ने झुक कर विवेक का लंड गपागप अपनी चूत में जाते देखा और विवेक से पूछा,
"तो तुम मानसिक रूप से उस बात के लिए बिलकुल तैयार हो की गौरव मुझे छोड़ दे? तुम्हारा रेनू को चोदना मुझे तो बड़ा अच्छा लगेगा....पर तुम गैर मर्द की मेरे साथ चुदाई देख सकोगे?"

"अगर तुम गौरव से चुदना चाह रही तो मुझे इससे कोई समस्या नहीं है बेबी डॉल. मेरी तो ये सब करने की वर्षों की तमन्ना थी."

"ओह शिट विवेक... मैं तो उस समय के लिए तरस रही हूँ जब गौरव मेरी ले रहा होगे और तुम मुझे उससे चुदते हुए देख रहे होगे. गैर मर्द से चुदने के विचार से मुझे मजा आने लगता है"

विवेक ने कविता को अपने रेनू के साथ के अनुभव को अब विस्तार में बता रहा था और उसे चोद रहा था. इस समय कविता को पता चला की उन्हें पड़ोसियों से मिलने अगली सुबह जाना है,

"ओह यस....तुम रेनू को जोर से चोद देना विवेक....ओह...आईईई...ई..ई.....मैं गयी रे... " कहते हुए कविता झड गयी.

दोनो एक दुसरे की बाहों में लिपट कर नंगे ही सो गए. उन्हें अगले दिन की सुबह का इंतज़ार था. उन्हें पता था की वो सुबह उनके जीवन में कई नए आयाम ले कर आयेगी.


RE: Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - sexstories - 06-27-2017

कविता और विवेक नंगे बदन एक दुसरे की बाँहों में समाये साड़ी रात सोते रहे. दोनों ने पिछली रात एक दुसरे को चोद चोद कर इतना थकाया था की जब वो एक बार सोये तो सुबह कब हुई ये पता नहीं चला. विवेक की आँख 9:30 पर खुली और वो तुरंत ब्रश करने चला गया. वापस आकर कविता के होठों पर होंठ रखे और धीरे से बोला, "बाय". विवेक अपने सामने के घर में कल ही शिफ्ट हुए पड़ोसी की बीवी रेनू से मिलने जा रहा था.

कविता को विवेक के वापस आने के लिए लगभग दो घंटे इंतज़ार करना पड़ा. विवेक को देखते ही कविता समझ गयी को वो रेनू को जम कर छोड़ कर आया है. विवेक ने उसे साड़ी आपबीती सुनाई. उसने बताय की जब वो उसके घर पहुंचा रेनू बिस्तर पर नंगी लेट कर उसका इंतज़ार कर रही थी. दोनों ने एक दुसरे पहले तो चूस चूस कर पानी निकाला फिर चोद चोद कर.

"कविता उन्होंने हमें शाम को ड्रिंक्स के लिए बुलाया है. तुम अभी भी राजी हो ना?"

कविता हंसी और बोली,
"अरे ये भी कोई पूछने की बात है... ऐसा मौका छोड़ने का तो सवाल ही नहीं उठता."

"अच्छा एक बात - रेनू पूछ रही थी की क्या तुम्हें औरत के साथ सेक्स पसंद है"

कविता बोली ... "मुझे लगता है की ये कला भी सीखने का वक़्त आ ही गया है...."

दोनों ने बाकी का दिन शाम का इंतज़ार करते हुए ही गुज़ारा. शाम को जब वो पड़ोसियों के लिए निकलने ही वाले थे, उसके घर की घंटी बजी, दरवाजा खोला तो देखा पड़ोसियों की बेटी सायरा खडी थी.

"मैंने सोचा की मैं तृषा को यहाँ कंपनी दूंगी, ताकि आप दोनों को मेरी मम्मी और पापा को ठीक से जानने का पूरा मौका मिले."

सायरा अन्दर आई. वो मिनी स्कर्ट और लो कट ब्लाउज पहने हुए थी. कविता अभी भी ऊपर तैयार हो रही थी. विवेक ने सायरा की चून्चियों को घूरा और बोला,

"ये बड़ी अच्छी बात है सायरा.. ये तो बड़ा अच्छा होगा अगर तुम और तृषा अच्छी सहेलियां बन जाओ.."

सायरा मुस्करा रही थी उसे अच्छे तरह पता था की विवेक इस समय उसके चुन्चियों को मजे ले कर घूर रहा है. वो बोली,
"मुझे पूरा यकीन है की हम दोनों बेस्ट सहेलियां बनेंगे ... क्या आप मेरे दोस्त बनेंगे
विवेक अंकल? मुंबई में मेरी कई सहेलियों के पिता लोग मेरे बड़े अच्छे दोस्त थे”

विवेक मन ही मन सोच रहा था की सायरा क्या उसे हिंट दे रही थी कि मुंबई में वो अपनी सहेलियों के पिताओं के साथ मौज कर रही थी. इस ख़याल से ही उसका लंड खड़ा हो गया. उसने सायरा की आँखों में आँखें डाल कर बोला,
"मुझसे दोस्ती करोगी सायरा?"
"ओह.. बिलकुल"

उसी समय कविता सीढ़ियों से उतारते हुए नीचे आई. उसकी ड्रेस बहुत ही सेक्सी थी, विवेक और सायरा जैसे कविता को घूरते जा रहे थे. तृषा कविता के पीछे पीछे आई और कविता की ड्रेस का बिलकुल ध्यान न देते हुए उसने सायरा का हाथ पकड़ा और अपने ऊपर कमरे में चली गयी.

कविता और विवेक हाथों में हाथ डाले जब पड़ोसियों के यहाँ पहुचे, गौरव और रेनू दोनों ने बड़े ही खुशी से उसका दरवाजे पर उनका स्वागत किया. जल्दी गौरव ने सबको ड्रिंक्स बना दिए. इस परिस्थिति में सब के लिए ड्रिंक्स जरूरी था. जैसे ही थोडा सरूर चढ़ा, वो चार लोग एक दुसरे के साथ और भी खुलते गए. गौरव के चुटकुले और विवेक के जवाबी चुटकुले नॉन-वेज होते चले जा रहे थे. लड़कियां उन गंदे चुटकुलों पर जम के ताली बजा बजा कर हंस रही थीं. विवेक और गौरव एक दुसरे की बीवियों के साथ खड़े थे. थोड़े समय में ही दोनों जोड़ियाँ एक दुसरे से थोडा दूर होती गयीं. एक दुसरे के कानों में फुसफुसाना शुरू हो गया. एक दुसरे को छूने का छोटा से छोटा मौका भी कोई छोड़ नहीं रहा था. सारा मामला बिलकुल ठीक दिशा में जा रहा था. कुल मिला कर गौरव के बनाए हुए ड्रिंक्स जैसे बिलकुल ठीक काम कर रहे थे. विवेक ने कविता को चेक किया. कविता के मम्मे आनंद में कड़े हो गए थे, उसके गाल शायद थोडा नर्वस होने की वज़ह से लाल हो गए थे.

कविता भी विवेक को बीच बीच में देख लेती थी. वैसे उसे विवेक और रेनू के बारे में कुछ सोचने की जरूरत ही नहीं थी क्योंकि वो दोनों तो आज सुबह ही अपनी चुदाई की शुरुआत कर चुके थे. बात ये थी की उसके और गौरव के बीच की बात कुछ आगे बढेगी या नहीं?

गौरव शायद कविता की इस अदृश्य उलझन को भांप गया. वो बोला,

"कविता तुमने अपने घर में मुझे अपना स्टोव दिखाया था. आओ मैं तुम्हें अपना होम थिएटर रूम दिखाता हूँ.”

कविता तो मानों पहले से ही तैयार बैठी थी. गौरव ने उसका हाथ अपने हाथों में लिया और बढ़ गया. अब ध्यान देने की बात ये है कि होम थिएटर रूम देखने का निमंत्रण विवेक और रेनू को क्यों नहीं मिला. शायद गौरव और कविता जल्दी से जल्दी रेनू और विवेक से बराबरी करना चाहते थे. क्योंकि सुबह कि चुदाई के बाद विवेक और रेनू का स्कोर इनके मुकाबले में 1-0 था. जैसे ही वे दोनों वहां से निकले, रेनू ने दीवाल पर अलग हुआ स्विच आन कर दिया. वो विवेक की तरफ मुडी और मुस्कराते हुए बोली,

"अब हम गौरव और तुम्हारी प्यारी और मासूम बीवी के बीच जो कुछ भी होगा वो सारा हाल इस स्पीकर पर सुन सकेंगे."

उन्हें स्पीकर पर दरवाजा खुलने की आवाज आई और फिर गौरव और कविता के परों की आहट सुनाई पडी. साड़ी चीजें बिलकुल साफ़ सुनाई पड़ रही थीं. उन्होंने क्लिक की आवाज सुनी, लगता है गौरव ने दरवाजा लॉक कर लिया हो. कविता मुंह दबा कर हंस रही थी. उसकी दिल की धडकनें जोर से चल रही थीं. गौरव ने लाइट ऑफ कर के वहां अँधेरा कर दिया. कविता ने जोर से सांस भरी और उई की अव्वाज निकाली क्योंकि गौरव अपना हाथ उसकी स्कर्ट के अन्दर डाल कर उसकी चूत सहला रहा था. कविता ने अपने पैरों को फैला दिया ताकि गौरव उसकी चूत को मजे से सहला सके और बोली,
"मौका मिला की की दरवाजा बंद और बत्ती बंद और काम चालू गौरव जी?"

"अरे मै तो तुम्हारे लिये कब से कितना बेकरार हूँ, बस मौका मिलने की ही देर थी जानेमन."

"ओह नो .... ओह... नो ..... बड़ा मजा आ रहा है, तुम जिस तरह से मेरी स्कर्ट के अन्दर मेरी रगड़ रहे हो.... ओह गौरव ... तुम तो बड़े खिलाडी निकले..आह्ह..."

"आओ यहाँ इस काउंटर पर बैठो, ताकि मैं तुम्हारी बुर चाट सकूं कविता."

बाहर विवेक और रेनू स्पीकर पर चलने की आवाज फिर गीली चीज चाटने की आवाज और साथ में कविता के सिहरने की आवाज सुन रहे थे.

"ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ... यस गौरव... बहुत अच्छे ... कितना मजा आ रहा है..... ओह शिट गौरव लगता है की झड जाऊंगी... फक......."

भरी साँसों के आवाजों से सारा कमरा भर उठा. थोडी समय बाद कविता एक धीमी से चीख मार कर शांत हो गयी. कविता बोली,
"अब कुछ खाने का मेरा टर्न गौरव.... चलो खोलो और दिखाओ यहाँ क्या छुपा रखा है ..."

और इसके बाद स्पीकर पर गौरव के लंड के ऊपर कविता का गीले मुंह की आवाजें सुनाई दीं. गौरव को मजा लेने की आवाजें भी बीच में आ रही थीं.

और कुछ ही छड़ों बाद

"मैं तुम्हारी बुर चोदना चाहता हूँ कविता... अभी के अभी..."

"यस .... जल्दी से.... ओह यस ...मजा आ रहा है ..... सो गुड. ओह तुम्हारा बड़ा लंड बड़ा प्यारा है गौरव... पेल दो इसे .... छोड़ दो मुझे...मुझे चोदो....... फक...फक...”

थोड़ी देर में जब आवाजें आनी बंद हो गयीं, गौरव बोला,
"ओह कविता, कपडे वापस पहनने की जरूरत नहीं है. चलो वापस विवेक और रेनू के पास चलते हैं... मुझे पूरा यकीन है की वो दोनों ऐसा की कुछ कर रहे होंगे"

"मुझे भी ऐसा जी लगता है"

जब गौरव और कविता नंगे बदन वापस विवेक और रेनू के वापस आये, रेनू फर्श पर फैले कालीन पर पूरी तरह से नंगी लेटी हुई थी. उसने अपने पैर पूरी तरह से फैला रखे थे. विवेक उसकी दोनों लम्बी और सुन्दर टांगों के बीच में बैठा उसकी चूत को अपने मोटे लंड से धीरे धीरे धक्के लगाता हुआ छोड़ रहा था. दोनों काफी आवाजें निकाल रहे थे. कविता ने विवेक को दूसरी औरत को चोदते हुए कभी नहीं देखा था. ये नज़ारा देख कर उसके बदन में जैसे ऊपर से नीचे तक चीटियाँ रेंग गयीं और उसकी चूत फिर से चुदाई के लिए बिलकुल तैयार हो गयी.
गौरव को तो बस इशारा ही काफी था. उसने खड़े खड़े ही पीछे से अपना लंड कविता की बुर में डाल दिया और उसे तब तक चोदा जब तक दोनों झड नहीं गए.

सबने बाद में बैठ कर बड़े ही आराम से डिनर खाया. खाने की टेबल पर बैठ कर उन्होंने खूब सारी बातें की. ध्यान देने वाली बात ये थी की सारी की सारी बातें सेक्स से ही सम्बंधित थीं और चारों लोग डिनर टेबल पर पूरी तरह से नंगे बैठ कर खाना खा रहे थे. खाना ख़तम कर के जब वे वापस उस कमरे में लौटे तो रेनू कविता के साथ चल रही थी. रेनू ने कविता की नंगी कमर को अपने हाथो में भर कर पूछा,
"तुमने कभी किसी औरत के साथ सेक्स किया है कविता?"

"अभी तक तो नहीं ... पर ऐसा लगता है की आज इस चीज पर भी हाथ साफ कर ही डालूँ..पर मुझे पता नहीं है की कैसे करते हैं..."

"अरे कभी न कभी तो जब आदमी के साथ किया होगा तो पहली बार ही हुआ होगा न? करना चालू करो तो बाकी सब अपने आप हो जाएगा..देखो, पहले मैं तुमारी बुर चाटना शुरू करती हूँ...उसके बाद तुम जैसा मैं तुम्हारे साथ करू वो तुम्हें अगर तुम्हें ठीक लगे तो मेरे साथ करते जाना.. बस मजा आना चाहिए..”

विवेक और गौरव दोनों लोग अपने हाथ में स्कॉच का जाम ले कर बैठ गए. ऐसा लग रहा था की जैसे लड़के लोग नाईट क्लब में बैठ कर दारू पीते हुए कोई शो देख रहे हों. रेनू ने कविता को सोफे के इनारे पर बिठा कर लिटा दिया और अपने तजुर्बेकार मुंह से कविता की बुर को चाटने लगी. रेनू की जीभ कविता की बुर के बाहर की खल के ऊपर थिरकती और दुसरे ही पल वह उसके बुर के दाने को चाट लेती, अगले पल वह कविता की बुर के छेद में अपनी जीभ घुसेड कर जैसे उसे थोडा सा अपनी जीभ से छोड़ सा देती थी. कविता उन्माद में सिस्कारिया भर रही थी. रेनू धीरे धीरे बुर के दोनों तरफ की खाल चाट रही थी और उसने अपने एक उंगली कविता की बुर में डाल राखी थी और दूसरी उंगली उसके गांड में. कविता के लिए यह अनुभव एकदम नया था और वो इसे जी भर के मजे ले कर ले रही थी. कविता अपना बदन एक नागिन की तरह उन्माद में घुमा रही थी. वो उन्माद में चीख रही थी. इतना आनंद उसके बाद के बाहर हो गया और एक चीत्कार के साथ ही उसने रेनू की जीभ पर अपनी बुर का रस उड़ेल दिया. कविता का बदन शिथिल पद गया. वह रेनू के कन्धों पर अपने पर डाले हुए सोफे पर टाँगे फैला कर नंगे पडी हुई थी.

कविता ने लेटे लेटे अपनी बुर की तरफ देखा. रेनू ने अपना चेहरा उसकी दोनों टांगों के बीच से ऊपर उठा. दोनों एक दुसरे को देख कर मुस्काये. कविता उठी और रेनू को पकड़ कर उसके होठों से होठों का चुम्बन दिया. कविता ने रेनू के होठों पर लगा हुआ अपनी ही बुर का रस चाट चाट कर स्सफ कर दिया.

"ये तो वाकई बड़ा मजे वाला था रेनू... थैंक यू डार्लिंग. मुझे लगता है की मुझे भी बदले में कुछ करना चाहिए”

कविता रेनू को लिटा कर उसके ऊपर 69 का पोज बना कर लेट गयी. दोनों लड़कियां एक दुसरे की चूत मस्त हो कर चाट रहीं थीं.

गौरव के पास क्यूबा से लाये हुए सिगार थे. उसने एक गौरव को दिया और एक खुद के लिए रखा. दोनों लड़कियों के पास गए. गौरव ने रेनू की चूत में लगभग 2 इंच सिगार घुसेढ़ दिया. विवेक ने भी इसकी पूरी नक़ल करते हुए कविता की बुर में सिगार दाल दिया.
रेनू बोली, “क्या तुम लोगों के लंड अब इतना थक गए हैं की हम लोगों को अब सिगार से चुदना पड़ेगा”

“अरे नहीं मेरी जान, ये तो हम तुम्हें चोदने के पहले तुम्हारी चूतों को थोडा धूम्रपान करा रहे हैं” कहते हुए गौरव ने सिगार दुसरे सिरे से जलाने की कोशिश की. पर वो जला नहीं क्योंकि सिगार को फूंकने की जरूरत होती है. और रेनू की चूत में शायद फूंकने का हुनर नहीं था.

कविता ने जोर से डांट लगाई, “अरे ये आग हटाओ यार, हम लोग जल गए तो.. पागल हो क्या तुम लोग”

दोनों ने तुरंत अपनी बीवियों की आज्ञा का पालन करते हुए सिगार चूत से निकाल कर जला लिया. सिगार चूत के रस से लबालब था तो दोनों को सिगार पीने में ख़ास ही मज़ा आ रहा था. कमरे में चूत के रस के साथ शराब और सिगार के धुंएँ की गंध भर गयी.

कविता और रेनू एक दुसरे की चूत चूसते हुए लगता है झड़ने ही वाले थे. विवेक बाथरूम के लिए गया. जब वो वापस लौटा, उसने देखा की गौरव चेयर पर बैठा है और कविता उसकी बाहों में बाहें डाले उसके ऊपर बैठी हुई है. गौरव का लंड उसकी चूत में घुसा हुआ है. कविता धीरे धीरे ऊपर नीचे हो रही मानों घोड़े की सवारी कर रही हो. विवेक मुस्काराया और कविता के पीछे जा कर खड़ा हो गया. कविता के चूतर गौरव के मोटे लंड के ऊपर उछालते देख कर उसका लंड फटाक से खड़ा हो गया. रेनू को समझ आ गया की विवेक की मन्सा क्या है. उसने ड्रावर खोली और उसी KY जेली की ट्यूब निकाली और आँख मारते हुए विवेक को थमा दी. विवेक ने ट्यूब से क्रीम अपने लौंडे पर लगाई और ढेर सारी क्रीम उंगली में लगा कर कविता की गांड के छेद पर लगाने लगा. जैसे ही ठंडी क्रीम कविता की गांड में लगी, कविता चौंक कर उचक गयी. पीछे मुड़ कर देखा तो समझ गयी की विवेक के गंदे दिमाग में की योजना है. वो गौरव के लौंडे को चोदते हुए हाँफते हुए बोली,

"हाँ विवेक.... जल्दी करो... मैंने इस पोज के के बारे में कितना सोचा हुआ है... आज वो सपना हकीकत में बदलने जा रहा है....कम ऑन विवेक...गो फॉर इट..."

रेनू आगे आई और विवेक का क्रीम से सना हुआ लौंडा कविता की गांड के छेद के मुहाने पर टिकाया, ऊपर विवेक को देख कर आँख मारी, जैसे कि वो 100 मीटर रेस में रेस स्टार्ट के लिए फायर कर रही हो. विवेक ने एक धक्का दिया और उसका लौंडा कविता की गांड में जा घुसा. वैसे तो कविता ने विवेक का लौंडा अपनी गांड में कई बार लिया हुआ था. पर ये पहली बार था जब लंड गांड में तब घुसा, जब बुर में एक मोटा सा लंड पहले से घुस कर कमाल कर रहा था. ये अनुभव बड़ा ही अनोखा था और बड़ा की मजेदार भी. जैसे जैसे दो मोटे लंड उसके दोनों छेदों में अन्दर बाहर जाते थे, वह वासना के उन्माद में पागल सी हो जा रही थी. आनंद के चरम शीर्ष पर थी वो और कुछ भी बडबडा रही थी.

“चोदो मुझे तुम दोनों....ओह मई गॉड...मेरी गांड मारो विवेक....मेरी बुर को चोद डालो गौरव....ओह्ह...मैं झड़ने वाली हूँ...मेरी मारो जोर से ....आ...आ...आ..आह...उईईईईई.......”, कविता ये बडबडाते हुए जोरों से झड गयी.

उस रात बहुत कुछ हुआ. रेनू और कविता ने विवेक और गौरव से डबल-चुदाई कराई. कविता ने रेनू से अपनी बुर फिर से चुस्वाई और फिर कविता ने रेनू की चूत चूसी. गर्मी की ये लम्बी शाम चारों ने बहुत से खेल खेलते हुए गुजारी.

जब वे चलने लगे तो रेनू ने कहा,
“मुझे बड़ी खुशी है की हम लोगों का परिचय इतनी जल्दी तुम लोगों से हो गया. बड़ा अच्छा हो की और 4-5 कपल्स हमारे खेल में शामिल हो सकते. तुम लोगों किसी और कपल्स को जानते हो जो इसमें शामिल हो सकें? मैं अगले हफ्ते नया जॉब पर स्टार्ट कर रही हूँ. वहां पर मैं और लोगों को अन्दर लाने की कोशिश करूंगी. जल्द ही हमारे पास एक बड़ा और बढ़िया सा ग्रुप होगा. बहुत मजा आएगा न? हम यहाँ पर पार्टी करेंगे. हम हिल स्टेशन पर जा कर पार्टी करेंगे”

सब लोगों ने फिर से किस किया एक दुसरे के बदन को अच्छे से छुआ. उन्होंने अगले हफ्ते की पार्टी विवेक और कविता के घर पर तय की. चारों लोग अपनी इस नयी शुरुआत से बड़े खुश थे. वो जानते थे कि आने वाला समय उस सबके जीवन में नए नए आनंद ले कर आने वाला था और सब लोग इस बात से बड़े खुश थे.


RE: Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - sexstories - 06-27-2017

आज की शाम को पड़ोसियों के घर जम कर सेक्सी पार्टी करने के बाद, कविता और विवेक धीरे धीरे घर की तरफ टहलते हुए जा रहे थे. थोड़े देर के लिये दोनों खामोश थे. शायद सोच भी नहीं प् रहे थे की पिछले ३-४ घंटे में जो भी हुआ है he सच में हुआ है या सम्पना था. शायद दोनों ही इस बात का इंतज़ार कर रहे थे की दूसरा बोले. यह उनका स्वैप का पहला अनुभव था. उन्हें खुशी थी की उनका पहला अनुभव इतना अच्छा गया.

विवेक मौन भंग करते हुए बोला, "कविता."

"यस डार्लिंग!"

"आज रात की इस पार्टी में तुम्हें मजा आया की नहीं?"

"बहुत ज्यादा मज़ा आया विवेक, तुम्हें तो मालूम है कि मुझे तुम्हारे सामने किसी दुसरे मर्द से चुदने का कितने सालों से इंतज़ार था. मेरा गौरव से चुदना, फिर तुमसे चुदना फिर तुम दोनों से एक साथ चुदना...और रेनू की का मेरी चूत को चाटना और मेरा उसकी चूत को चाटना...मुझे तो अभी भी मेरी किस्मत पर यकीन नहीं हो रहा है.“
(पाठक ये सब कैसे हुआ पिछले भाग में पढ़ सकते हैं)

कविता बोलती जा रही थी,
“हम लोगों ने अगले हफ्ते मिलने का प्लान तो किया है. पर मेरा मन तो उससे पहले एक बार और मिलने का हो रहा है विवेक....मतलब कल राट ही मिलें उसने फिर से?”

विवेक ने स्वीकृति दी,
"बढ़िया आईडिया है ये. मुझे लगता है कि वो मान जायेंगे. हमारे पडोसी हमसे कहीं से कम चुदक्कड़ नहीं हैं. वो चोदने का कोई मौका नहीं छोड़ेंगे. मैं उन्हें कॉल कर के कल सुबह ही बुला लूँगा डार्लिंग!”

दोनों एक बार फिर से शांत हो गए

"विवेक"

"हाँ जी"

"तुन्हें मुझे गौरव मुझे चोदते हुए देख कर कैसा लगा था?"

"मुझे बड़ा ही हॉट लगा बेबी डॉल. दुसरे आदमी का लौंडा तिम्हारी चूत में जाते देख कर मेरा लंड तो बहुत जोर से खड़ा हो गया. अब मैं तुम्हें दो आदमियों से इकठ्ठे चुदते हुए देखना चाहता हूँ. जैसे गौरव और मैंने तुम्हारी और रेनू की डबल-चुदाई की, ठीक वैसे ही. कुछ और लोगों का इंतज़ाम करना पड़ेगा अगली पार्टी के लिए”

"ओह, मुझे भी वो करना है. तुम्हें पता है जब गौरव मुझे चोद रहा था और तुम वहां बैठ कर अपना लंड हाथ से धीरे धीरे हिलाते हुए मुझे चुदते हुए देख रहे थे, मैं जितना जोर से झड़ी की पूरे जीवन में उतना जोर से नहीं नहीं झड़ी थी. तुम्हारा मुझे देखना एक कमाल का अनुभव था विवेक.”

“हाँ.. आज की रात बड़े मजे की राट थी बेबी डॉल.”

“और, जब मैं और रेनू एक दुसरे के ऊपर लेट कर एक दुसरे की चूत चाट रहे थे, तुम्हें मजा आया होगा न?”

"बहुत मजा आया कविता. जीवन मजे लेने के लिए है. मुझे बड़ी खुशी है की तुमने आज किसी औरत को चोदने का नया अनुभव प्राप्त किया"

"और मुझे बड़ा मजा आया जब तुम और रेनू चोद रहे थे, और बाद में जब तुमने और गौरव दोनों ने
रेनू की डबल-चुदाई की, तब तो कमाल ही हो गया."

"बिलकुल सही बोला"

"विवेक मुझे चुदाई बड़ी अच्छी लगती है, कभी कभी ऐसा लगता है जैसे मेरा मन करता है कि किसी को भी चोद डालूँ”

"हाँ कविता, इस मामले में मैं भी कुछ ऐसा ही हूँ. जब सेक्स इतना आनंद देने वाला काम है तो पता नहीं दुनिया ने इसमें इतनी रोक टोक क्यों लगा रखी है. केवल अपनी बीवी को चोदो...किसी और की तरफ बुरी नज़र से मत देखो...मुझे ये सारे नियम बेकार के लगते हैं. मुझे लगता है पड़ोसियों के साथ सेक्स कर के हमारे लिए एक नयी दुनिया दी खुल चुकी है. और अब ये हमारे ऊपर है की हम इस नयी दुनिया का कितना आनंद लें.”

"काश की ये सब ऐसे ही चलता रहे. मैं तो बस अब किसी भी चीज के लिए हमेशा तैयार हूँ. जो भी सामने आएगा.. मैं एक बार कोशिश जरूर करूंगी करने के लिए....तुम्हें कैसा लगेगा की मैं माल जाऊं और किसी बिलकुल अजनबी से आदमी से चुद लूं? ... जब भी मैं इस बारे में सोचती हूँ, मेरा मन बेचैन हो जाता है."


"ओह, सही जा रही हो बेबी डॉल.... मैं देखना या फिर कम से कम इस बारे में सुनना तो जरूर चाहूंगा. मेरी तरफ से तुम्हें खुली छूट है कविता."


जैसे ही उन्होंने घर का दरवाजा खोला, सायरा सीढ़ियों से नीचे उतर रही थी. उसके चेहरे पर ऐसा की लुक था जैसे बिल्ली के दूध पीने के बाद का होता है.


विवेक मुस्कराया और कविता के कानों में फुसफुसाया, "मैं सायरा को उसके घर तक छोड के आता हूँ. अगर देर लगे तो तुम सो जाना प्लीज"

"विवेक, क्या तुम कुछ नया शुरू करने वाले हो?" वो वापस फुसफुसाई.

"आज के दिन तो कुछ भी हो सकता है."

"हाँ, आज के दिन तो सही में कुछ भी हो सकता है. खैर, बाद में मुझे पूरी कहानी सुनानी पड़ेगी"

"ओह.. जरूर"

जैसे जी सायरा नीचे उस तक पहुची, विवेक ने उसके लिए दरवाजा खोला और बोला,
"क्या मैं इस खूबसूरत और जवान लडकी सायरा को उसके घर तक छोड़ दूँ?”

"ह्म्म्म जरूर मिस्टर वी."

जैसे ही दरवाजा बंद हुआ. विवेक ने अपना हाथ सायरा की पतली कमर में डाल दिया और सायरा को अपनी बाहों में खींच लिया. उसका जवान जिस्म एक पल में विवेक के अनुभवी बदन से टकराया, उनके होठ आपस में मिले और दोनों के बीच का पहला और गहरा चुम्बन लिया गया. जैसे ही चुम्बन ख़त्म हुआ, विवेक को ये बात अच्छी तरह से समझा आ गयी की सायरा अभी अभी चूत चाट कर आयी है. चूँकि सायरा पिछले ३-४ घंटे से उसकी बेटी तृषा के साथ थी, विवेक को ये समझने में देर नहीं लगी की उसके होठों पर किसकी चूत का रस लगा हुआ है.


"सायरा तुम हो बड़ी हॉट. मैं तो जैसे जलने लगा हूँ. तुमने बताया था की मुंबई में तुम्हारी सहेलियों के पापा तुम्हारा अच्छे दोस्त हुआ करते थे. क्या इसका ये मतलब है की वहां के अंकल लोग और तुम आपस में ....”

“सेक्स करते थे मिस्टर वी”, सायरा ने बेबाकी से विवेक का वाक्य पूरा किया.


"तो मैं भी तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हूँ सायरा"

"मुझे मालूम है मिस्टर वी...वो लोग मुझे थोडा पॉकेट मनी भी देते थे"

“मैं भी दूंगा”

“और कभी कभी सिगरेट भी पिलाते थे”

“ओह सिगरेट? ये लो” विवेक ने पैकेट निकाल कर दिया.

सायरा ने एक सिगरेट निकाल कर होठों पर लगाया और जलाया. पहला काश जोर से खींचा और फिर से विवेक के होठों पर होठ रख कर चुम्मा लेते हुए सारा का सारा धुँआ विवेक के मुंह के अन्दर फूंक दिया. विवेक को सायरा की ये अदा ऐसी भाई की उसका लंड एक टाइट हो गया.


विवेक ने भी एक सिगरेट जला ली.

“मेरे मम्मी पापा कैसे लगे मिस्टर वी?”

“ओह.. बहुत खूब लगे. हमें बड़ी खुशी है की तुम्हारे जैसे फॅमिली यहाँ रहने आयी है.”

“पापा ने कविता आंटी को मजा दिया की नहीं?”

“अरे भरपूर दिया सायरा. क्या तुम अपने पापा मम्मी के साथ भी?”

सायरा ने धुएं का कश छोड़ते हुए बोला, “मेरे परिवार में सब लोग बड़े ओपन माइंडेड हैं. इस लिए जब जिसका जो मन करता है, दुसरे को उससे कोई तकलीफ नहीं होती है.”

“ओह.. अच्छा ...” विवेक तो जैसे हकला रहा था.

“और मैंने तृषा को ये सब बता दिया है..ताकि आपको आगे बढ़ने में थोडा आराम रहे मिस्टर वी”

“थैंक यू सायरा” विवेक की जैसे बांछे ही खिल गयीं.

दोनों की सिगरेट अब ख़तम हो गए थी.

“तो चलें अब?”

“जरूर”


विवेक और सायरा लगभग दौड़ते हुए सायरा के घर में घुसे. घुसते ही विवेक ने अपने हाथ तृषा के स्कर्ट में दाल के उसके नंगी बुर सहलानी शुरू कर दी. सायरा अपनी मिनी स्कर्ट के नीचे कुछ नहीं पहना था. विवेक के शॉर्ट्स अपन आप जमीन पर गिर गए. विवेक ने उसका टॉप उतार कर के उसकी जवान चुन्चियों को आज़ाद कर दिया. अब तक दोनों एकदम नंगे हो चुके थे. विवेक ने देखा की सायरा को जितना उसने सोचा था वो उससे भी कहीं ज्यादा सेक्सी और हॉट थी.

सायरा बोली,

"ओह यस मिस्टर वी, प्लीज मुझे चोदो...जल्दी."

विवेक ने सायरा को आगे की तरफ झुकाया और अपने लंड को उसकी गांड के तरफ से चूत के मुहाने पर टिकाया. सायरा की चूत पहले से ही गीली थी. विवेक ने सोचा की हो सकता है की तृषा ने भी सायरा की चूत चाटी हो और इसकी वज़ह से ये गीली हुई हो.


सायरा ने अपनी गांड पीछे की तरफ ठेली जिससे विवेक का लंड आधा घुस गया.

“ओह मिस्टर वी..प्लीज डालो पूरा..”

विवेक ने अगले ही धक्के में पूरा पेल दिया. वो जानता था कि जवानी में चुदाई का बड़ा उन्माद होता है. सो उसने जल्दी जल्दी धक्के लगाने शुरु कर दिए. सायरा का ये पहला टाइम तो था नहीं मोटे और लम्बे लंड लेने का, सो वो बड़े ही मजे ले कर चुदाई करवाने लगी. थोड़ी ही देर में सायरा झड गयी. तो उसने विवेक का लंड अपनी चूत ने निकाल लिया. वो घुटने के बल बैठ गयी, विवेक का लंड अपने हाथों में लिया और बोली,

“मुझे चूत के रस से सना हुआ लंड बड़ा स्वादिष्ट लगता है”

वह विवेक का लंड अपने मुंह में लेकर उसे मुंह से चोदने लगी. जवान मुंह की गर्मी और गीलपन से विवेक थोड़ी ही देर में झड गया. सायरा विवेक का पूरा वीर्य अपने मुंह में ले कर पी गयी.


RE: Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - sexstories - 06-27-2017

विवेक ने अपाने कपडे पहने और बोला,
"मैं तुम्हें ऐसे ही रोज चोदना चाहना हूँ सायरा."

"कभी भी और कैसे भी मिस्टर वी. मुझे चुदाई बहुत पसंद है. अब तो आप समझ ही गए होंगे की ये हमारा खानदानी खेल है”


"तो क्या तुम्हें बुर चाटना भी पसंद है सायरा?"

सायरा मुस्कराई. वो समझ गयी की विवेक ने उसके होंठो पर लगा हुआ तृषा के चूत का रस टेस्ट किया है.

"हाँ जी मिस्टर वी."

विवेक धीरे धीरे घर की तरफ बढ़ने को हुआ. सायरा बोली

"मिस्टर वी! मुझे लगता है की तृषा भी इस सब के लिए एकदम तैयार है. आज शाम को मैंने उसे काफी कुच्छ सिखाया है. उम्मीद है की आप को इससे कोई आपत्ति नहीं है"

"ओह बिलकुल नहीं. तुमने एक दुसरे के साथ जो भी किया उम्मीद है की दोनों को पसन्द आया. है न?"

"बिलकुल. तृषा तो जैसे मजे के मारे पागल ही हो गयी जब मैंने उसकी बुर चाटनी शुरू की. वो कई बार मेरे मुंह के ऊपर झड़ी. बाद में उसें मजे से मेरे चूत भी चाटी”


दरवाजे पर विवेक ने सायरा को एक बार फिर से चूमा. सायरा बोली,

"अगली बार आप मेरी गाड़ मारना मिस्टर वी! मुझे गांड में लंड बड़ा अच्छा लगता है."

"वो तो मुझे भी पसंद है सायरा, अगली बार जरूर से." विवेक बोला और उसकी गांड सहला दी.

जैसे ही विवेक जाने लगा, सायरा बोली,

"आपको अब तृषा को चोदना चहिये मिस्टर वी. वो इसके लिए पूरी तरह से तैयार है. उसके लिए अच्छा रहेगा की घर से उसकी चुदाई की शुरुआत हो. मुझे चोदने वाले पहले आदमी मेरे पापा ही थे और मुझे ये बात हमेशा याद रहेगी. मुझे अभी भी पापा का लंड बेस्ट लगता है मिस्टर वी.”


और विवेक अपने घर की तरफ जा रहा था. वह सोच रहा था की कैसे सायरा ने उसे अपनी खुद की बेटी तृषा को चोदने के कितना करीब पंहुचा दिया है. जब वो ऊपर पंहुचा तो देखा की कविता शाम की इतनी सारी चुदाई से थक हार कर गहरी नींद में सो रही थी. विवेक को पता था की अब वो सीधे सुबह ही जागेगी. उसने अपने कपडे उतार दिए. फ्रिज से एक बियर निकाल कर ४ घुट में खाली कर दी. वह चलते हुए तृषा के कमरे पहुच गया. उसका दिल जोर से धड़क रहा था. उसने कमरे का दरवाजा बहुत धीरे से खोला. कमरे में नाईट लैंप जल रहा था जिससे कमरे की सारी चीजें एकदम साफ़ दिखाई दे रही थीं. तृषा अपने बिस्तर के ऊपर एकदम नंगी लेटी हुई थी. उसके टाँगे फैले हुई थीं. विवेक ने उसकी कुंवारी बुर को खड़ा हो निहार रहा था. उसे इस बात की बड़ी हैरानी हो रही थी की लंड की तीन तीन औरतों की चूत और गांड में अन्दर बाहर करने की इतनी सारी कसरत के बावजूद भी उसका लंड एक बार फिर से खड़ा हो रहा था. वह अपनी बेटी तृषा को चोदना चाह रहा था. पर वो इसमें कोई जल्दी नहीं करना चाहता था. वो चाहता था की ये काम बड़ी सावधानी से किया जाए, सब तृषा खुद इस बात के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार हो. इसी समय उसने तृषा की आवाज सुनी


"हेल्लो पापा"

"ओह ..हेल्लो बेटा."

"पापा, मैं यहाँ पर बिना कुछ पहने सो रही हूँ ना?"

"हाँ बेटा. पर ये तो प्राकृतिक रूप है हमारा. और देखो न कितना सुदर रूप है ये.”


"हाँ मुझे भी ऐसे अच्छा लगता है पापा.”


इसी समय तृषा ने ध्यान से देख की पापा भी वहां नंगे खड़े थे.

"ओह पापा मुझे आप भी नंगे खड़े बड़े अच्छे लग रहे हैं. आपने कुछ भी नहीं पहना है. मुझे आपकी ...वो.. वो..चीज.. बड़ी अच्छी लग रही है... ये तो काफी बड़ा है...”

"अच्छा है, उम्मीद है कि मेरी ये चीज तुम्हें परेशान नहीं कर रही है. तो तुमने और सायरा
ने आज रात काफी मजा किया. नहीं?"

"अरे हाँ पापा हमने बड़ा मज़ा किया. सायरा बहुत अच्छे दोस्त बन गयी है मेरी. इतने कम टाइम में वो मुझे बहुत कुछ सिखा गयी. वैसे, वो आपको बहुत पसंद करती है. उम्मीद है कि आपको भी भी सायरा पसंद होगी."

"हाँ, सायरा तो मुझे बहुत पसंद है, थोड़े देर पहले ही मैं उसके साथ उसके घर तक गया था और हम दोनों काफी करीब आ गए”

"बिलकुल ठीक पापा, उसने बोला था की आज रात वो आपसे कनेक्ट करेगी. मुझे पता नहीं कि की कनेक्ट का क्या मतलब है. पर अच्छा ही होगा."

"हमारा कनेक्शन हुआ बेटा. और ये कनेक्शन बड़ा ज़बरदस्त था..भाई मज़ा आ गया.... हो सके तो हम दोनों भी कुछ उसी तरह से कनेक्ट करेंगे किसी दिन.”


"मेरे ख़याल से मुझे मज़ा आएगा उस कनेक्शन से. पापा, एक बात पूछूं?"

"बिलकुल."

"क्या सेक्स से बेहतर कुछ और होता है?"

"बेटा, अगर सेक्स से बेहतर कुछ और है तो मुझे वो चीज पता नहीं है.”

"पापा, सायरा ने आज मुझे सिखाया कि खुद से कैसे सेक्स का मज़ा लेते हैं. मैं लेट कर अपने आप से खेल रही थी और मुझे बड़ा मज़ा आया.”


"सो, रात क्या हुआ?"

"पापा, आपने कहा की मैं आपसे सेक्स के बारे सारी बातें कर सकती हूँ. है न?"

"हाँ मैंने बोला था. और बिलकुल तुम कर सकती हो. मैं तुम्हारे मन की हर बात जानना चाहूँगा."

"सायरा ने मुझे 69 का पोज सिखाया. हम दोनों ने पता नहीं कितनी बार अपना रस छोड़ा. क्या इसमें कोई गंदी बात है?"

"नहीं बेटा, ये तो बड़ी मजेदार चीज होती है, मुझे भी 69 करना बहुत पसंद है."

"मतलब आपको बुर चाटना पसंद है?"

"पसंद? अरे मुझे तो बहुत ज्यादा पसंद है. तुम्हारी माँ के हिसाब से मैं तो इसमें एक्सपर्ट हूँ."

"ओह पापा, मम्मा कितनी किस्मत वाली हैं."

"थैंक यू बीटा, कुछ और सवाल?"

"नहीं और नहीं...... पापा क्या आप मेरे साथ थोडा लेट सकते हो?"

"जरूर."

और विवेक बिस्तर पर तृषा के साथ जा कर लेट गया. तृषा मुद कर लेट गयी जिससे उसकी नंगी गांड विवेक की तरफ हो गयी. विवेक ने तृषा को पीछे से बाहों में भर लिया. उसका लंड तृषा की गांड की दरार में फंसा हुआ था और धीरे धीरे खड़ा हो रहा था. तृषा ने विवेक के हाथ पकड़ कर अपनी चुन्चियों पर रख लिया.

विवेक से अब काबू में रहना मुश्किल हो रहा था. वो तृषा की चुन्चिया दबाने लगा. तृषा
तृषा ने उन्माद में ह्म्म्म की आवाज निकाली और बोला,

"ओह मुझे मजा आ रहा है पापा. सायरा ने भी मेरी चुन्चियों के साथ ऐसा की किया था. पर आपके हाथों में कोई और ही बात है.”


विवेक का लंड अब पूरी तरह से खड़ा हो कर तृषा के गांड पर बुरी तरह से गड रहा था.
.

"पापा आपका टाइट लंड मेरी गांड के ऊपर चुभ रहा है."

“चुभ रहा है न? ये तो बुरी बात है. एक काम करते हैं. इसको यहाँ डाल देते हैं” कहते हुए विवेक ने लंड का सुपाडा तृषा की बुर में डाल दिया.

"ओह पापा. आपका कितना बड़ा है. डाल दो अन्दर. सायरा ने बोला था की मुझे अपना पहला बार आपसे ही करवाना चाहिए. उसके पापा उसके साथ कभी भी करते हैं. पापा आप भी करना”
तृषा अपनी गांड हिलाने लगी ताकि अपने जीवन के पहले लंड को मजे से बुर में ले कर आनंद सके.


"तृषा तुम्हें तो कोई भी करना चाहेगा. तुम हो इतनी सुन्दर और हॉट. मैं तो कब से इस फिराक में था. भला हो सायरा का की आज ये हो गया....आह...आह...”

तृषा ने बोला,


"ओह पापा आपका लंड मेरी बुर में बड़ा अच्छा लग रहा है. मुझे यकीन नहीं हो रहा की ये सब हो रहा है. आह...उई....पूरा अन्दर डालो न...”


तृषा जोर से आनंद में चिल्लाने लगी और और झड गयी. विवेक बस यही मना रहा था की कहीं इस मजे के चीख पुकार में कविता न जाग जाए. पर कविता के नींद पडी पक्की थी. अरे जाग भी गयी तो क्या होगा वो भी इस खेल में शामिल हो जायेगी.


विवेक अभी भी धीरे धीरे लंड पेल रहा था. तृषा मानों एक बार और झड़ने को थी. वो बोली,

"ओह पापा आपका लंड बड़ा मस्त है. सायरा ने सही बोला था की मुझे आपसे चुदाई पसंद आयेगी.
पापा चोदो मुझे जोरों से ....... "

वो फिर से झड गयी..


विवेक भी इस बार झड चुका था. उसने अपना लंड निकाल लिया.

तृषा ने पूछा, "बहुत अच्छे पापा, आप मुझे सिखाओगे की लंड कैसे चूसते हैं?"

"बिलकुल"

"और क्या आप मेरे चुतडो को भी चोदोगे?"

"हाँ. लगता है तुमने और सायरा ने सारी की सारी चीजें कवर करी है आज रात.”

"बिलकुल पापा... और क्या आप मेरी चाटोगे?"

"हाँ जी बेटा, हम और भी कई सारी चीजें करेंगे. हो सके तो तो तुम्हारे माँ को भी इस खेल में शामिल करेंगे.
और जल्दी ही और लोगों को भी शामिल करेंगे."

"पापा, सायरा आपसे चुदना चाहती है."

"मुझे मालूम है."

"हम्म.. जब आप उसे उसके घर ड्राप करने गए, तो क्या आपने उसे चोदा पापा?"

"एकदम सही"

"ओह ये तो मजे की बात है. पापा क्योंकि आपने उसे चोदा, बदले में क्या मैं उसके पापा को छोड़ सकती हूँ.. सायरा कह रही थी उसके पापा मस्त हैं."

"जरूर. गौरव को भी तुम पसंद आओगी. किसी दिन उन्हें अकेले देख कर कर उन्हें बोल देना इस बारे में. शायद तुम्हें बोलने की जरूरत न पड़े... सायरा बता देगी उन्हें. गौरव को तुन्म्हारी टाइट चूत चोदने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए.”


"सायरा ने बताया था की उसके पेरेंट्स कभी कभी अपने घर पर सेक्स पार्टी करते हैं. जिसमें सारे लोग नंगे होते हैं और सारी की सारी रात हर कोई हर किसी को चोदता है या चूसता है. ये तो बड़ी मजेदार पार्टी है. क्या आज राट आप लोगों ने वैसी ही पार्टी की. सायरा को लग रहा था की आप लोग कुछ ऐसा ही कर रहे होंगे”


"सायरा बिलकुल ठीक सोच रही थी."

"हम्म......"

फिर विवेक ने तृषा को शाम के सारे डिटेल्स बताये.

"पापा अगली बार मैं भी चलूंगी. सायरा कह रही थी की उसके माँ डैड उसे उसे वो वाली पार्टी में आने देते हैं. एक पार्टी में उसे उसके पापा के अलावा 4 और लोगों ने चोदा था. और कई लड़कियों ने उसे चूसा था.


"हम्म... मैं और तुम्हारी माँ बात करके तय करेंगे की तुम्हारा अभी इन पार्टी में जाना ठीक है की नहीं. अभी पहले तो उसे आज रात के बारे में बताना है. बस वो कहीं अपसेट न हो जाए इस बात से. पर शायद नहीं होगी. क्योंकि मेरी तरह वो भी तुमसे सेक्स करना चाहती है. तुम्हारी माँ बड़े ओपन है और आजा की रात ने उसे और भी ओपन कर दिया है."

"पापा, मम्मा और रेनू आंटी का 69 सोच कर ही गुदगुदी हो रही है. मैं भी माँ के साथ 69 करूंगी."

"हाँ बेटा, मुझे तुम दोनों को देख कर बड़ा मज़ा आएगा."

विवेक ने इसके बाद तृषा को लंड चूसने का प्रैक्टिकल दिया. तृषा ने उसे तब तक नहीं छोड़ा जब तक लंड ने उसके मुंह में अपना रस भर नहीं दिया.


विवेक अब अपने बिस्तर पर लौट आया. कविता को अपनी बाहीं में समेत कर वो कब सो गया उसे पता ही चला.


अगली सुबह जब विवेक उठा, कविता बिस्तर पर बैठ कर उसे बड़े प्यार से देख रही थी. जैसे ही विवेक ने आँखें खोलीं, कविता ने कहा,

"आय लव यू डार्लिंग."

"आय लव यू टू कविता."

"विवेक डार्लिंग, मुझे तुम्हारा इतना सिक्योर होना बड़ा अच्छा लगता है. शायद इसी लिए तुम्हें मेरा गैर मर्दों से चुदने से कोई ऐतराज़ नहीं है. मुझे कल रात गज़ब का मज़ा आया. अब मुझसे आज राट का इंतज़ार हो पाना मुश्किल हो रहा है. मुझे तो अब बस मज़े करने हैं.. खैर वो छोडो तुम सायरा के साथ अपने टहलने के बारे में बताओ. जिस तरह से तुम उसे देख रहे थे, मुझे लगा रहा था की तुम उसे जल्दी ही चोदने वाले हो. क्या तुमने उसके साथ कुछ किया.”

"हाँ जी मैडम, कल उनके एंट्रेंस पर ही उसे चोद डाला. वो बड़ी मजेदार लडकी है. लंड तो ऐसे चूसती है जैसे कोई प्रो हो. एक्चुअली उसे उसके पापा गौरव की ट्रेनिंग जो मिली है. गौराव सायरा को नियमित रूप से चोदता है. सायरा उन लोगों को पार्टी में भी आती है.”


RE: Antarvasna घर में मजा पड़ोस में डबल-मजा - sexstories - 06-27-2017

"ओह .. ये तो बड़ी हॉट बात है, ओह विवेक डार्लिंग, सायरा को चोद कर टीमने कमाल का काम किया. अब मैं जब भी उनके एंट्रेंस के बारे में सोचूंगी, तुम्हारी और सायरा की चुदाई मुझे याद आयेगी...... गौरव अपनी खुद के बेटी चोदता है? वाव, मजा आ गया जान कर. अगली बार जब वो सायरा को चोदे, मैं देखना चाहूंगी.
क्या सायरा आज हमारे यहाँ आयेगी? मैं उसकी बुर चाटना चाहती हूँ गौरव."

"हो सकता है, अगर हम तृषा के मनोरंजन के लिए कुछ इंतज़ाम कर दें तो."

"हाँ, सोचो सायरा और तृषा एक ही उम्र के है. अगर तृषा सायरा की तरह हो तो तुम क्या करोगे विवेक?"

"डार्लिंग, असल में तुम सोच सकती हो त्रिशा उससे कहीं ज्यादा सायरा जैसी है. सायरा तृषा को इस सब चीजों की शिक्षा देती रही है. मुझे उम्मीद है की अब जो मैं तुम्हें बताने वाला हूँ वो तुम खुले दिमाग से सुनोगी. जब मैंने सायरा को चोदा. उसके होठों पर से किसी के चूत की गंध आ रही थी. मैं समझ गया कि वो रस तृषा की चूत का था. बाद में मैंने सायरा से कन्फर्म भी किया तो उसने बताया की जब तुम और रेनू एक दुसरे की चूत को चाट रहे थे, तुम लोगों की बेटियां यहाँ वही कमाल कर रही थीं.

"ओह विवेक, सही कह रहे हो न?”

“हाँ, एकदम यही हुआ है”


"लगता है बिलकुल अपनी माँ पर गयी है तृषा. विवेक, हमने मजाक में काफी कुछ कहा इस बार में पहले. पर क्या सच में तुमने कभी तृषा को चोदने के बारे में सोचा है?"

"हाँ."

"मैंने भी, वो इतनी सुन्दर है और उसका बदन इतना सेक्सी है. क्या तृषा को पता है की सायरा अपने बाप से चुदती है."

"हाँ."

"ओह शिट विवेक, इस डिस्कशन से मैं और गर्म होती जा रही हूँ. मेरी चूत से पानी टपकने लगा है. क्या टीम तृषा को चोदोगे विवेक?"

"हाँ."

"मैं भी."

"मुझे कुछ और भी बताना है. मैंने अपनी बेटी को कल रात में चोद दिया."

विवेक ने सारी की सारे घटना विस्तार से कविता को सुनाई.

"ओह शिट विवेक. ये तो कमाल ही है... मैं तुम्हें उसको चोदते हुए देखना चाहती हूँ.... मैं देखना चाहती हूँ कैसे तुम अपनी बेटी को चोदते हो..मैं उसकी जवान बुर की छोसना चाहती हूँ ..और मैं उससे ओनी चूत चुस्वाना चाहती हूँ...कितने समय से हम उस बारे में बस बात ही करते थे...अब समय आ गया ...चलो चले के तृषा को जगाते है...चलो न...”

कविता हाल में भागते हुए तृषा के रूम की तरफ जाने लगी. उसने शायद ये ध्यान भी नहीं दिया की उसने जागने के बाद कपडे नहीं पहने हैं..और वो पूरी की पूरी नंगी थी...और विवेक भी पीछे पीछे नंगा दौड़ा चला आया. तृषा अपने बिस्तर पर नंगी टाँगे फैला कर लेते हुई थी. कविता बिस्तर के एक तरफ बैठी और विवेक दूसरी ओर.

कविता ने एक उंगली से तृषा की बुर को सहलाना शुरू कर दिया. बुर गीली थी सो वह थोड़ी सी उंगली उसकी बुर में भी डाल देती थी. बुर काफी टाइट थी. कविता ने पूछा,

"इसकी बुर इतनी टाइट है, इसमें तुम्हारे मोटा लंड कैसे घुसाया तुमने?”

“औरत की चूत में कुदरत का करिश्मा है. ये मोटे से मोटा लंड ले सकती है जानेमन. आखिरकार बेटी तो तुम्हारी ही है ना?”

कविता ने अब अपनी दो उँगलियाँ तृषा की चूत में डाल दीं थीं. तृषा की नींद अब खुल गयी थी. उसने बाएं से दायें अपनी नज़र घुमाई और माँ को भी अपने खेल में शामिल होते देख कर बड़ी खुश हुई.

“माँ अच्छा लगा रहा है, करते जाओ.”

“तुम्हारे पापा ने मुझे सब बता दिया है.”

कविता ने अपना मुंह तृषा की बुर के मुहाने पर लगा दिया और लगी चूसने. 

विवेक ने अपना लंड तृषा के मुंह में दे दिया. तृषा मोटा लंड अपने मुंह में ले कर मजे से चूसने लगी. इधर नीचे कविता तृषा की बुर के आस पास का इलाका, गांड का छेद सब कुछ चाट रही थी. तृषा तुरंत झड गयी, पर उसने अपने पापा का लंड चाटना नहीं छोड़ा.

बाद में तीनों ने एक साथ शावर में नहाया. शावर में विवेक ने तृषा को चोदा. जब वो उसे छोड़ रहा था. माँ कविता अपनी बेटी की चूत चूस रहें थीं.

इस तरह से पूरा दिन पारिवारिक खेल में बीता. रात में विवेक ने माँ और बेटी दोनों की चूत मारी और गांड मारी. एक पोज में जब माँ बेटी एक दुसरे के ऊपर 69 कर रहे थे. विवेक अपना लंड थोड़े देर कविता की चूत में डाल के चोदता था फिर निकाल कर चल के दुसरे किनारे पर आ कर उसे त्रिधा की गांड में पेल देता था. चुदाई के तरह की क्रीड़ायें करते हुए परिवार एक ही बिस्तर पर सो गया.

सुबह का सूरज निकला. परिवार में किसी को पिछले 48 घंटे में कपडे पहनने की जरूरत नहीं महसूस हुई थी. तृषा अपने माँ डैड के लिए चाय बना कर लायी. और पूछा,

"क्या आज पडोसी हमारे यहाँ आ रहे हैं?"

"हाँ. मैं फोन कर के कन्फर्म कर देत़ा हूँ अभी”

"क्या मैं आप लोगों की पार्टी में आ सकती हूँ आज प्लीज?"

कविता और विवके ने एक दूसरे की तरफ देखा और बोला,
“हाँ पार्टी में तो आ सकती हो, पर पहले हम दोनों से एक एक बार चुदना होगा चाय पीने के बाद”

परिवार के तीनों लोग इस बात पर हंसने लगे.


This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


deshi shalwar kholte garl xxxxxxxxx videoperm fist time sex marathivideo mein BF bottle Pepsi bathroom scene peshab karne wala video meinristedaro ka anokha rista xxx sex khaniजवानीकेरँगसेकसीमेjenifer winget faked photo in sexbabaबच्चे के लिये गैर से चुत मरवाईsashur kmina बहू ngina पेज 57 राज शर्माboksi gral man videos saxyling yuni me kase judta hebahu nagina aur sasur kamina page 7Nidhi bidhi or uski bhabhi ki chudai mote land se hindi me chudai storymummy ne shorts pahankar uksaya sex storiesBhenchod bur ka ras pioxxx nypalcomdesi thakuro ki sex stories in hindiFoudi pesab krti sex xxx आतंकवादियो ने पटक कर चोदा AntarvasanaSasur ka beej paungi xossipdase opan xxx familbete ki haveli me pariwar walo ki pyar ki bochar ki sexShcool sy atihe papany cuda sex sitoreदीदी की ब्रा बाथरूम मेwww ladki salwar ka kya panty ha chapal com35brs.xxx.bour.Dsi.bdoSunny Kiss bedand hot and boobs mai hath raakhaSarkar ne kon kon si xxxi si wapsite bandkarihiansexbaba tufani lundPapa ne ma ko apane dosto se chudva sex kPapa, unke dost, beti ne khela Streep poker, hot kahaniyasaumya tandon fucking nude sex babaबेटे के साथ चुदना अच्छा लगता हैjenifer winget faked photo in sexbabasexbaba didi ki tight gand sex kahaniMaa ki gand main phansa pajamasexbaba बहू के चूतड़xxx nypalcomsaamnyvadisuhagraat baccha chutad matka chootचूतसेwww sexy indian potos havas me mene apni maa ko roj khar me khusi se chodata ho nanga karake apne biwi ke sath milake khar me kahanya handi comPad kaise gand me chipkayeTamanna imgfy . netpativrata maa aur dadaji ki incest chudaiबीवी जबरन अपनी सहेली और भाभी अन्तर्वासनाmeri bhabhi ke stan ki mansal golai hindi sex storyanokha badala sexbaba.netJabrdasti bra penty utar ke nga krke bde boobs dbay aur sex kiya hindi storysex ko kab or kitnee dyer tak chatna chaey in Hindi with photo suhaagrat ko nanad ki madad sepure pariwaar se apni chut or gand marwaai story in hindisouth actress Nude fakes hot collection sex baba Malayalam Shreya Ghoshalvidi ahtta kandor yar hauvaSexbaba shadi ki anokhi rasammast chuchi 89sexchoti ladki ko khelte samay unjaane me garam karke choda/kamuktaBhabhi ne padai ke bahane sikhaya gandi bra panty ki kahaniLadkiyo ke levs ko jibh se tach karny sedeshi shalwar kholte garl xxxxxxxxx videoगोर बीबी और मोटी ब्रा पहनाकर चूत भरवाना www xxn. comLadki ghum rahi thi ek aadmi land nikal kr soya tha tbhi ladki uska land chusne lagti hai sexxshiwaniy.xx.photoApni ma ke bistar me guskar dhire dhire sahlakar choda video Meri maa or meri chut kee bhukh shant kee naukaro n sex storiesमेरी बिवि नये तरीके से चुदवाति हे हिनदि सेकस कहानिchiranjeevi fucked meenakshi fakesTeri chut ka bhosda bana dunga salima.chudiya.pahankar.bata.sex.kiya.kahaneLadki muth kaise maregi h vidio pornMust karaachoth cut cudai vedeo onlainBoltekahane waeis.comantarvasna केवल माँ और हिंदी में samdhi सेक्स कहानियाँmastram antarva babsexstory sexbabaXxx dase baba uanjaan videoMaa ko seduce kiya dabba utarne ke bhane kichen me Chup chapnewsexstory.com/chhoti bahan ke fati salwar me land diyaMami ko hatho se grmkiya or choda hindi storyMaa bete ki buri tarah chudai in razaiअजय माँ दीप्ति और शोभा चाचीPorn kamuk yum kahani with photoaantra vasana sex baba .comझवल कारेghar ki kachi kali ki chudai ki kahani sexbaba.com sahut Indian bhabhi ki gand ki chudai video ghodi banakar saree utha kar videosexbaba net.comsexbaba bhyanak lundsexysotri marati vidioBus ki bhid main bhai ka land satasasur kamina Bahu Naginaचोदाई पिछे तरते हुई