XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
07-22-2017, 02:49 PM,
#51
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
काजल : "अपनी किस्मत की भी बात होती है...मुझसे अच्छा तो तू खेलता है, फिर भी तू हमेशा हारता ही है...और साथ ही साथ मेरे हुस्न का भी कमाल है ये...इसके बिना भी ये पैसे कमाने मुश्किल थे....''

केशव उसकी ये बात सुनकर चोंक गया..और बोला : "कहीं आपने अपने इसी हुस्न का इस्तेमाल करके ही तो ये पैसे नही कमाए ना...मतलब कहीं आपने राणा के साथ कुछ...''

काजल : "अरे मेरे लल्लू भाई...तू इतना क्यो सोचता है...अगर थोड़े बहुत मज़े ले भी लिए तो तेरे पेट मे क्यो दर्द हो रहा है...''

केशव की नज़र सीधा उसकी चूत पर जा टिकी .शायद वो सोच रहा था की कहीं राणा ने उसकी कुँवारी चूत तो नही फाड़ डाली..और काजल भी उसको अपनी चूत की तरफ देखती हुई समझ गयी की वो क्या सोच रहा है..

वो बोली : "फ़िक्र मत कर...वहाँ तक बात नही पहुँची...यहाँ तो सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे भाई का हक है...''

केशव ने राहत की साँस ली...पर वो इतना तो समझ ही चुका था की चाहे पूरे ना सही पर कुछ तो मज़े लिए ही है राणा ने उसकी बहन के साथ..तभी वो नीचे आकर इतना खुश सा लग रहा था..अपने सारे पैसे हारने के बाद भी..

काजल ने अपना पैर खिसका कर और आगे किया और सीधा उसके लंड पर रख दिया, केशव तड़प उठा...उसके पैर के नाख़ून चुभ रहे थे उसके लंड पर..

वो समझ गया की काजल उसको देगी ज़रूर पर तडपा-2 कर..

काजल बेड पर चढ़ गयी और उसके मुँह पर अपने पैर का पंजा रख कर बोली : "चाटो इसको...''

केशव के लिए ये पल इतना उत्तेजना से भरा था की उसका दिमाग़ तक सुन्न हो गया...वो हमेशा से यही चाहता था की उसका पार्ट्नर बेड पर अपना हुक्म चलाए और वो किसी गुलाम की तरह उसका पालन करता रहे, बिना कुछ बोले..

और यहा इस वक़्त काजल उसपर अपना हुक्म चला रही थी...अपना स्लेव बना कर ..

उसने अपनी जीभ बाहर निकाली और उसके पैर के अंगूठे को चाट लिया...काजल पहले से ही ये सब सोच कर आई थी, इसलिए उसने अपने पैरों को अच्छी तरह से धो रखा था...उसके पैर की गुलाबी उंगलियाँ तड़प उठी जब उनके साथी अंगूठे को केशव ने चूसना शुरू किया...

और फिर धीरे-2 केशव ने उसके पैर की हर उंगली को चूसा...उनका रस पिया..और वहां से मिल रही गुदगुदी से काजल का पूरा शरीर ऐंठ रहा था...वो हर चुस्के से सिसक उठती...तड़प उठती...


''अहहssssssssssssssssssssss ...... ऑश केशव .................. ज़ोर से चूसो इन्हे ....''

और धीरे-2 करते हुए वो नीचे बैठ गयी....केशव ने उसे बिस्तर पर लिटा दिया...और अपने दहकते हुए होंठ उसके लबों पर रख दिए..



''उम्म्म्मममममममममममम पुचहssssssssssssssssssssssssssssssssssss ''

और एक लंबे चुंबन मे डूब गये दोनो...

केशव ने उसको बेड पर लिटा दिया...और उसकी टाँगो को फेला कर उसकी चूत को चूम लिया...

काजल ने उसके सिर पर हाथ रखकर अपनी तरफ खींच लिया...और उसके गीले-2 होंठों ने काजल की रसीली चूत को अपने कब्ज़े मे ले लिया..

''ओह केशव ..................... सकक्क मी ....हार्डरsssssssssssssssssssssssssssssss ..... अहह ..... ओह ....... जैसे सारिका की चूस रहा था.... वैसे ही कर ................. अहह .... ओह ...मेरी क्लिट ..................अहह ....हन ..............उसको चूस ....सही से ..............अंदर ले उसको ....................उम्म्म्मममममममममम ..अहह ....ओह केशव .............. मेरी जानsssssssssssssssssssssss ....''

उसे अपने भाई पर एकदम से बड़ा प्यार आ गया...वो इतनी अच्छी तरह से सेवा जो कर रहा था उसकी..

केशव बीच-2 मे खड़ा हो जाता और काजल से अपने लंड को मसलवा कर फिर से उसकी चूत को चूसने मे लग जाता..
-
Reply
07-22-2017, 02:49 PM,
#52
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
वो बड़े ही मज़े ले-लेकर उसकी चूत का रस पी रहा था.... अपनी जीभ से उसे चुभलाता...उसकी फांको को खोलता और उनके बंद होने से पहले ही अपने होंठ अंदर रखकर उसकी उभरी हुई क्लिट को दबोच लेता और चूस लेता..



काजल भी अपने भाई की कलाकारी देखकर तड़प रही थी नोटों से भरे बिस्तर पर..

काफ़ी देर तक चूसने के बाद जैसे ही वो झड़ने के करीब पहुँची, केशव ने उसको चूसना छोड़ दिया...और उसे घोड़ी बना दिया...क्योंकि उसके मन मे शुरू से ही ये इच्छा थी की जब भी वो काजल की कुंवारी चूत पहली बार मारेगा, ऐसे ही मारेगा, उसको घोड़ी बनाकर...

काजल भी अपना सिर नीचे टीका कर और अपनी गांड को हवा मे लहरा कर लेट गयी...उसका दिल जोरों से धड़क रहा था...पहली बार जो था उसके साथ...उसे डर भी लग रहा था की केशव का लंबा लंड उसकी चूत में जाएगा भी या नही....उसने बेड की चादर को मुँह मे ठूस लिया, ताकि उसकी चीख भी निकले तो दब कर रह जाए..

पर केशव जानता था की ऐसा कुछ नही होगा, उसने चूसा ही इतना था उसे की उसकी चूत बुरी तरह से रस मे डूब चुकी थी...ऐसे मे उसके लंड को अंदर जाने मे कोई परेशानी नही होनी चाहिए थी...

केशव ने उसके भरे हुए कुल्हों को पकड़ा और अपने लंड को धीरे से उसकी चूत के होंठों पर लगाया...और एक जोरदार झटका दिया....काजल ने भी उसी वक़्त अपनी कमर को पीछे की तरफ झटका मार दिया...ताकि जो भी होना है एक ही बार में हो जाए...और वो हो भी गया एक ही बार में ...

केशव का लंबा साँप उसकी सुरंग मे सरसरता हुआ घुसता चला गया....

''आआआआआआआआआआआआआआअहह ................ सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ......... आआआआआआआआअहह ..... ओह केशव ................... म्*म्म्ममममममममममममममममममममम ''


हल्का दर्द भी हुआ काजल को...आख़िर उसकी सील जो टूटी थी अंदर से...और खून की दो बूँद भी टपक गयी बाहर...जो सीधा जाकर गिरी जीते हुए हज़ार के नोट पर...

थोड़ी देर तक ऐसे ही खड़ा रहा केशव...और फिर उसने झुक कर काजल की पीठ को चूम लिया...और फिर धीरे से अपने लंड को बाहर खींचा...और फिर वैसे ही धीरे-2 वापिस अंदर डाल दिया...

ये घिसाई का एहसास काजल को अंदर तक हिला गया....ऐसा सेंसेशन तो उसने आज से पहले कभी महसूस नही किया था....ऐसा लग रहा था की उसके अंदर रेशम से बनी कोई चीज़ फिसल रही है...उसकी गुदगुदाहट को महसूस करके वो अपना वो थोड़ा बहुत दर्द भी भूल गयी...और फिर से अपनी कमर को आगे पीछे करने लगी...

''उम्म्म्ममममममममममम येस्स्स्स ............ ओह केशव ...... बहुत अक्चा लग रहा है ............ अहहsssssssssssssssssssssss ...क्या फीलिंग है .......... आई एम लविंग इट ................ उम्म्म्मममममममम .....करते रहो .... ऐसे ही ....''
-
Reply
07-22-2017, 02:49 PM,
#53
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

पहली बार में ही जैसे काजल को चस्का लग गया चुदाई का...उसका मन कर रहा था की वो जिंदगी भर ऐसे ही लेटी रहे और केशव पीछे से उसकी चूत मारता रहे...

पर ऐसा हो सकता तो दुनिया के सारे लड़के-लड़कियाँ इसी काम मे लगे रहते...उपर वाले ने आख़िर झड़ने का भी रूल बनाया है...अगर सेक्स करने के बाद कोई झड़े नही तो कितने भी घंटे या दिनों तक लगे रहते ये कोई नही जानता...

और इस समय अपने लंड पर झड़ने का दबाव केशव महसूस कर रहा था...क्योंकि काजल की करारी चूत थी ही इतनी कसी हुई की वो उसके लंड को निचोड़ सा रही थी...

इसलिए वो हर एंगल से मज़े लेना चाहता था....उसने काजल की चूत से लंड बाहर खींच लिया...काजल को तो लगा जैसे किसी ने उसकी जान ही निकाल ली है...वो उसको वापिस अंदर लेने के लिए तड़प सी उठी...

केशव ने उसको पीठ के बल लिटा दिया और उसकी दोनो टांगे खोल दी...और अपने लंड को बीच मे रखकर उसके उपर झुक गया...केशव का लंड एक बार फिर से सरसराता हुआ उसके अंदर प्रवेश कर गया...और आनंद मे भरकर काजल की आँखे अपने आप बंद हो गयी...उसने अपनी दोनो टांगे फेला दी..और अपने हाथ भी दोनो दिशा मे फेला कर अपने आप को केशव के सामने पूरा खोल कर रख दिया..

केशव भी उसके सेक्स से भरे चेहरे को देखता हुआ, उसे चूमता हुआ, ज़ोर-2 से झटके मारने लगा...

ऐसी कामुक चुदाई तो उसने सारिका के साथ भी नही की थी...काजल के हिलते हुए मुम्मे बड़े ही दिलकश लग रहे थे..इसलिए वो एक झटका धीरे और दूसरा तेज मारता जिसकी वजह से वो मुम्मे थोड़ा रुकते और फिर उपर उछलते...

केशव : "ओह दीदी ................... सच मे ................. कमाल हो आप........... ऐसा मज़ा तो मुझे सारिका के साथ भी नही मिला आज तक ................ आई लव यू दीदी ..................''

अपनी ऐसी तारीफ सुनकर काजल भी खुश हो गयी और उसने उपर होकर केशव को चूम लिया, चूम क्या लिया उसे चूस सा लिया..

और फिर काजल ने उसको नीचे पटका और खुद उसके लंड पर चढ़ गयी....उसका चेहरा इस बार केशव के पैरों की तरफ था...इसलिए केशव के सामने उसकी भरी हुई गांड थी....जिसे हाथ मे लेकर वो उसे अपने लंड जोरों से पटक रहा था ...

और काफ़ी देर से चुदाई करने की वजह से अब वो झड़ने के बिल्कुल करीब था...अब वो खुद को रोकना नही चाहता था...इसलिए उसने काजल को पीछे करते हुए अपना लंड बाहर निकालना चाहा...पर काजल ने उसे रोक दिया और बोली : "नही ......मत निकालो ...अंदर ही करो ...... मैं गोली ले लूँगी ..... पहली बार मे मैं तुम्हे पूरा महसूस करना चाहती हू .....''

वो भी झड़ने के बिल्कुल करीब थी.....इसलिए वो ज़ोर-2 से उसके लंड पर कूदने लगी...

और फिर उसे अपने अंदर एक गोली सी छूटती हुई महसूस हुई...जो केशव के लंड से निकली थी....उसके लंड का रस किसी गोली की तरह महसूस हुआ उसे अपने अंदर...और उसे महसूस करते ही उसकी चूत की दीवारों ने भी नमी छोड़नी शुरू कर दी...और वो भी केशव के साथ-2 झड़ने लगी..

''अहह ..... ओह केशव ............. वॉट ए फीलिंग ................ उम्म्म्मममममममममममममममम .....मज़ा आ गया ................... अहह ...''

केशव के लंड से मिलकर उसका रस भी इतना अधिक हो गया की झटके के साथ-2 वो भी बाहर निकलने लगा....


सारा का सारा रस निकल कर उसी वक़्त केशव की जांघों पर आ गिरा....और वो भी हाँफती हुई सी उसके पैरों पर गिर पड़ी...

थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद वो पलटी और खिसक कर उसकी छाती से लग गयी...और कुछ ही देर में सो भी गयी...

केशव के लंड से और उसकी चूत से रस निकल कर ना जाने कितनी देर तक नीचे पड़े नोटों पर गिरता रहा...

सुबह काजल की नींद जल्दी खुल गयी..और उसने अपने कपड़े पहने, और अपनी माँ के पास जाकर लेट गयी..

दीवाली का दिन था, इसलिए सोई नही वो उसके बाद...पूरे घर की अच्छी तरह से सफाई की...केशव के कमरे में गयी और उसे नहाने के लिए भेजा...बिस्तर की हालत देखकर उसे खुद ही बड़ी शर्म आई...काफ़ी नोट फट चुके थे..कई नोटों पर खून की बूंदे और कई पर उनके प्यार की मिली जुली निशानी चमक रही थी...उसने उन ख़ास नोटों को अलग रख लिया निशानी के तोर पर और बाकी नोटों को समेट कर अलमारी में रख दिया...
-
Reply
07-22-2017, 02:49 PM,
#54
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
अब दोनो को शाम का इंतजार था..और वो शाम कितनी कामुक होने वाली थी ये तो काजल को भी नही पता था..

दीवाली का दिन था इसलिए पूरे दिन घर में कोई ना कोई मेहमान या गली में रहने वाले लोग आते-जाते रहे...दीवाली की शुभकामनाए और मिठाई के साथ... काजल ने भी काफ़ी गिफ्ट और मिठाइयाँ ली और अपने रिश्तेदारों और पड़ोसियों के घर जाकर दे आई...ये सब करते-2 कब शाम हो गयी उसको भी पता नही चला..केशव घर पर ही था..सुबह से माँ की तबीयत ठीक नही लग रही थी इसलिए वो उनके साथ ही रुका हुआ था.

शाम को जब तक काजल घर पहुँची, डॉक्टर उनके घर से निकल रहा था..जिसे देखकर काजल घबरा गयी..वो भागती हुई उपर के कमरे में गयी, केशव अपनी माँ के पास बैठा था. पूछने पर पता चला की उन्हे साँस लेने मे तकलीफ़ हो रही है...शायद नजला जम गया है और उसकी वजह से उनके हार्ट पर भी ज़ोर पड़ रहा है..इसलिए डॉक्टर ने सलाह दी की इन्हे एक दिन के लिए हॉस्पिटल में एडमिट कर दो और नेबोलाइस करवा लो...साथ ही साथ हार्ट पर जो दबाव पड़ रहा है उसकी भी जाँच हो जाएगी...

प्रोसिज़र तो सिंपल था और सिर्फ़ एक ही दिन का था..पर मुसीबत ये थी की त्योहार का दिन था..पर माँ की तबीयत पहले है, इसलिए दोनो भाई बहन उसी वक़्त माँ को हॉस्पिटल ले आए...वैसे भी उनके पास अब पैसों की कमी तो थी ही नही ..माँ को एडमिट करवाया, केशव ने कहा की वो उनके साथ ही रुकेगा..और काजल को वापिस घर भेज दिया...और साथ ही साथ उसने सारिका को भी फोन करके बोल दिया की वो आज रात के लिए उसके घर पर ही रुक जाए, क्योंकि काजल को वो अकेला नही छोड़ना चाहता था.

काजल करीब 9 बजे घर वापिस पहुँची..और थोड़ी ही देर मे सारिका भी आ गयी..उसकी माँ छोड़ने आई थी उसको..दोनो ने मिल कर खाना खाया..

काजल ने टाइम देखा, राणा और दूसरे जुआरियों के आने का टाइम होने वाला था...वो दुविधा में थी की क्या करे..उसने केशव को फोन किया, उसने काजल को निश्चिंत होकर खेलने की सलाह दी...माँ तो ठीक ही थी..और काजल के साथ सारिका भी थी, इसलिए केशव ने बिना डरे उसे आज भी खेलने के लिए कहा..क्योंकि वो अच्छी तरह से जानता था की आज दीवाली का दिन है, और अगर आज काजल की किस्मत ने साथ दिया तो काफ़ी पैसे जीत सकती है वो..काजल के मन में भी लालच था..पर पैसों का नही, किसी और चीज़ का..

खैर, दस बजे के करीब सभी आना शुरू हो गये..और आधे घंटे के अंदर-2 सभी वहाँ पर थे..और सभी अंदर ही अंदर ये सोचकर काफ़ी खुश थे की आज की रात काजल अकेली है घर पर और वो उनके साथ खेलेगी..वो मन ही मन उसके साथ कैसे मज़े लेंगे, ये सोचने के उपाय निकालने लगे..

आज सभी के पास काफ़ी पैसे थे..क्योंकि दीवाली का दिन था, इसलिए जुआ भी मोटा होने वाला था.

सारिका को भी ये सब देखकर काफ़ी रोमांच का एहसास हो रहा था..पिछली बार भी उसे बड़ी उत्सुकतता थी की कैसे काजल इस खेल को खेलती है...आज वो उसके साथ पूरी रात यही रहने वाली थी, इसलिए पूरी गेम को देखकर वो भी कुछ नया सीखना चाहती थी...पर उसे क्या पता था की काजल किस तरह के खेल खेलती है..

काजल के कहने पर सारिका ने किचन संभाल ली और सबके लिए कुछ स्नेक्स का इंतज़ाम करने लगी..और बाकी सभी लोग टेबल के चारों तरफ बैठ गये और खेल शुरू कर दिया.

राणा तो कल काजल के हुस्न का दीदार कर ही चुका था..उसे पूरा नंगा देखकर...उसे चूस्कर...बस चुदाई की कमी रह गयी थी..वो ये बात भी जान चुका था की काजल अभी तक कुँवारी है..पर बेचारे को ये बात नही पता थी की कल रात ही केशव ने उसकी चुदाई करके उसे कली से फूल बना दिया है..

और बिल्लू और गणेश भी अपनी ललचाई हुई नज़रों से काजल के जिस्म को देख रहे थे..आज त्योहार का दिन था इसलिए उसने काफ़ी सेक्सी रेड कलर का टॉप पहना हुआ था..जिसमे से उसकी क्लीवेज साफ़ दिख रही थी

सारिका भी कम नही लग रही थी...उसने भी डोरी वाला येल्लो टॉप पहना था और स्लीवलेस होने की वजह से उसकी गोरी और सुडोल बाहें काफ़ी सेक्सी लग रही थी..नीचे की जीन्स मे उसकी फंसी हुई गांड, जिसे केशव ने मार-मारकर इतना टेंप्टिंग कर दिया था की हर लोंडे की नज़र उसके मोटे उभारों से पहले नीचे की फेलावट पर जाती थी..

कुल मिलाकर आज की रात दोनो सहेलियाँ कयामत ढा रही थी..

खेल शुरू हुआ..आज की रात राणा अकेला ही आया था..जीवन किसी बड़े क्लब में अपनी किस्मत आज़माने गया हुआ था..आख़िर दीवाली पर जुआ खेलने का मौका रोज-2 तो आता नही है ना..

राणा ने पत्ते बाँटे...और पहली बाजी शुरू हुई..सारिका भी तब तक सबके लिए कबाब तल कर ले आई और काजल की बगल मे बैठकर खेल को समझने की कोशिश करने लगी..

आज पहले ही तय हो चुका था की 500 की ब्लाइंड होगी, इसलिए सबने एक के बाद एक ब्लाइंड फेंकनी शुरू कर दी..4 ब्लाइंड चलने के बाद बिल्लू ने अपने पत्ते उठाए और उसने खुशी -2 दो हज़ार की चाल चल दी..

उसकी चाल आते ही गणेश ने भी पत्ते उठा लिए और काफ़ी सोचने के बाद उसने भी चाल चल ही दी..
-
Reply
07-22-2017, 02:49 PM,
#55
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
पर काजल ने अपने पत्ते नही उठाए और एक हज़ार की ब्लाइंड चल दी...और उसकी देखा देखी राणा ने भी हज़ार की ब्लाइंड चल दी..

अब दो लोग चाल पर थे और दो ब्लाइंड पर..

बिल्लू ने बड़े ही आराम से एक बार फिर से चाल को डबल किया और 4 हज़ार की चाल चल दी..गणेश के पास पेयर था 4 का..इसलिए उसकी फटने लगी थी...उसे पता चल गया की हो ना हो बिल्लू के पास 3 पत्तों वाला कुछ आया है...कलर या सीक़वेंस..इसलिए उसने पेक कर दिया ..

अब काजल ने अपने पत्ते उठा ही लिए...पर बड़े ही बेकार से थे वो...इसलिए उसने भी पेक कर दिया..

और वो इस पहली हार मे ही समझ चुकी थी की हर बार की तरह अभी उसका लक क्यो काम नही कर रहा ...क्योंकि उसने आज अंडरगार्मेंट्स पहने हुए थे...कल वो देख ही चुकी थी की अंदर के कपड़े उतारने के बाद ही उसका टोटका काम कर रहा था..इसलिए वो उठी और उपर के कमरे की तरफ चल दी..ये बोलकर की बस 1 मिनट में आई...

सारिका पीछे से बैठकर उन लोगो का खेल देखने लगी..

राणा ने जब देखा की काजल ने पेक कर दिया है तो उसकी रूचि भी खेल मे ख़त्म हो गयी और उसने अपने पत्ते उठा लिए...उसके पास 9 का पेयर आया था...पर फिर भी बिल्लू का कॉन्फिडेंस देखकर उसने शो माँग लिया..

बिल्लू ने अपने पत्ते दिखाए, उसके पास सीक़वेंस था..और वो भी 1,2,3 का..

उसने मुस्कुराते हुए सारे पैसे समेट लिए..करीब 15 हज़ार आए उसके पास..

तभी काजल भी वापिस आ गयी..और किसी ने तो नही पर राणा ने उसके हिलते हुए मुम्मे देखकर ये अंदाज़ा लगा ही लिया की वो ब्रा उतारकर आई है...वो भी राणा की आँखो मे देखकर मुस्कुराती हुई अपनी सीट पर बैठ गयी..

सारिका वापिस सोफे के हत्थे पर चड़कर बैठ गयी...और अचानक उसने नोट किया की वो काजल के गले में काफ़ी अंदर तक देख पा रही है...जबकि पहले ऐसा नही था..उसकी ब्रा गायब थी...

उसने काजल के कान मे फुसफुसाते हुए कहा : "तेरी ब्रा कहाँ गयी...सब सॉफ-2 दिख रहा है..''

काजल (धीरे से) : "वो मैने उतार दी...चुभ रही थी निगोडी..''

सारिका : "पर ये सब देख रहे हैं...राणा को देख ज़रा..तेरे बूब्स को कैसे घूर रहा है..''

काजल : "तभी तो उतारी है...ताकि ये घूर सके मुझे...''

काजल के मुँह से ऐसी बेशर्मी भरी बात सुनकर सारिका चोंक गयी...वो बेचारी नही जानती थी की ये गेम आगे चलकर किस लेवल तक जाने वाली है...

अगली गेम शुरू हुई,और 3 ब्लाइंड के बाद इस बार काजल ने अपने पत्ते उठा लिए..और फिर उसने वो किया जिसकी उम्मीद राणा को तो थी पर और किसी को नही..उसने अपने पत्ते दाँये हाथ मे पकड़े हुए थे...और अचानक उसी हाथ को अपनी टॉप के गले से अंदर डालकर अपने मुम्मों पर रगड़ डाला और जब सभी उसकी इस हरकत को देखकर आँखे फाड़ने लगे तो वो बोली : "उफफफफ्फ़.... ये मच्छर भी ना....''

सारिका का तो मुँह खुला का खुला रह गया...काजल ने जिस बेशर्मी से अपनी गहरे गले की टॉप में हाथ डालकर अपने मुम्मो को रगड़ा था, सामने बैठे हर इंसान ने वो हरकत देखी थी...पहले तो वो ब्रा उतार आई और उसके बाद इतनी बेशर्मी से वो हाथ अंदर डालकर अपने बूब्स रगड़ रही थी जैसे उन्हे नोच डालेगी..

अब उसे क्या पता था की वो तो अपना टोटका बैठाने की कोशिश कर रही थी...अपने मुम्मों पर अपने पत्ते रगड़कर वो उनकी किस्मत बदल देना चाहती थी..और अपनी भी..

और उसके मुम्मों से रगड़ खाकर जैसे उन पत्तों की किस्मत सच मे बदल चुकी थी...उसके पास पान के पत्तों का कलर आया था..उसने मुस्कुराते हुए 2 हज़ार डाल दिए बीच में और चाल चल दी..और वो भी हल्के से अपनी चूत से रगड़कर ...जिसे राणा के अलावा किसी और ने नोट ही नही किया...बिल्लू और गणेश तो अभी तक उसके बिना ब्रा के मुम्मों के उपर लगे निप्पल के इंप्रेशन को देखकर सकते में थे...

राणा ने भी अपने पत्ते उठाए...और टोटके पर टोटका चलाते हुए उसने भी उतनी ही बेशर्मी से अपने लंड के उपर उन्हे रगड़ा और पत्ते देखे..
-
Reply
07-22-2017, 02:49 PM,
#56
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

उसके पास भी कलर आया था...और वो भी पान का...पर जाहिर सी बात थी, दोनो के नंबर्स अलग थे...और ये बात तो तब साबित होती जब दोनो का शो होता..

गणेश ने पत्ते उठाए और देखते ही पेक कर दिया..बिल्लू का भी यही हाल था...उसके पास भी सिर्फ़ इक्का आया था और दो छोटे पत्ते...सामने से दो चाल आ चुकी थी, इसलिए उसने भी पेक कर दिया..

अब बचे थे सिर्फ़ राणा और काजल...

राणा सोचने लगा की काश कल की ही तरह वो लोग आज भी अकेले में होते तो इतने नाटक ना करने पड़ रहे होते अभी तक..सीधा अपने वाले खेल में आ चुके होते दोनो..जिसमे जीतने के बाद काजल खुश होकर खुद ही अपने कपड़े उतार कर उसके साथ मज़े ले रही थी..

मज़े लेने के मूड में तो वो आज भी थी..और वो तो हमेशा से ही तैयार रहता था..पर बिल्लू और गणेश के सामने वो कैसे करे, यही पंगा था..और उपर से सारिका भी साथ मे थी ...ऐसे मे आज की रात कुछ भी कल जैसा होना मुश्किल सा लग रहा था उसे..

पर वो नही जानता था की काजल के दिमाग़ में क्या चल रहा है..पैसे जीतना आज काजल की मंशा नही थी..आज की रात तो वो कल की रात से भी ज़्यादा मज़े लेना चाहती थी..और वो भी सब के साथ..क्योंकि कल की ताज़ा चुदी चूत में एक बार फिर से खुजली होनी शुरू हो चुकी थी...और वो ये सोच रही थी की जब केशव के अकेले लंड ने उसे इतने मज़े दिए हैं तो इन तीनो के लंड मिलकर उसे कितना मज़ा देंगे..

इसलिए उसने अपनी योजना को अंजाम तक ले जाने के लिए अपने जलवे बिखेरने शुरू कर दिए..

और उसने हज़ार के 2 नोट लेकर एक बार फिर से अपनी टॉप के अंदर डाला और अच्छी तरह से घुमा कर उन्हे नीचे फेंक दिया..

सारिका एक बार फिर से बेहोश होती-2 बची...

गणेश और बिल्लू भी समझ चुके थे की वो काजल का कोई टोटका है..क्योंकि ऐसे खेल के खिलाड़ी सब जानते हैं..और ये जानकार की काजल का टोटका इतना सेक्सी है, उनकी तो साँसे उपर की उपर और नीचे की नीचे रह गयी..

काजल बड़े ही कामुक तरीके से राणा को देखते हुए वो सब कर रही थी...इसलिए बिल्लू और गणेश को ये समझते भी देर नही लगी की कल उपर वाले कमरे में क्या-2 हुआ होगा...जब उनके सामने बैठकर ही काजल इतनी बेशर्मी दिखा रही है तो उपर उसने क्या नही किया होगा..

सारिका एक बार फिर से फुसफुसाई : "काजल, तू पागल हो गयी है क्या...ये क्या बेशर्मी है...कर क्या रही है तू...''

उसकी बात पास बैठे बिल्लू ने सुन ली, और बोला : "ये शायद इसका टोटका है...और ऐसे टोटके करने से बाजी जीती जाती है...क्यो राणा भाई, सही कहा ना मैने...''

और ये सुनकर तीनो बड़े ही भद्दे तरीके से ठहाका लगाकर हँसने लगे...

राणा : "हाँ बिल्लू, तूने बिल्कुल सही पकड़ा...और मैने कल उपर देखा था, काजल के ऐसे टोटकों की वजह से ही मैं पूरा नंगा हो गया था कल..''

सबने उसकी तरफ घूर कर देखा

राणा : "मेरा मतलब, मेरे सारे पैसे लूट लिए थे इसने...सच मे बड़े कमाल के टोटके होते हैं इसके...''

वो एक बार फिर से उसके मोटे-2 मुम्मों को घूरता हुआ बोला ..

सारिका की तो कुछ समझ मे नही आ रहा था...वो सोच रही थी की जब इस बात का केशव को पता चलेगा तो वो कैसे रिएक्ट करेगा...उसकी बहन उसके दोस्तों के सामने कितनी बेशर्मी से पेश आ रही है..

और सारिका को ये बात पता नही थी की ऐसे टोटके अपनाने के लिए उसे केशव ने ही उकसाया था..

राणा की बारी आई...और वो तो था ही एक नंबर का हरामी..उसने भी 2 हज़ार रुपय उठाए और उन्हे अपने लंड से रगड़ने लगा...इतना रगड़ा की पेंट के नीचे से उसका उभार खड़ा होकर सॉफ दिखाई देने लगा...उसकी लंबाई का अंदाज़ा सॉफ लगाया जा सकता था..

बिल्लू और गणेश भी उसकी बेशर्मी पर एक दूसरे को आँख मारकर मज़े लेने लगे...

और काजल अगली चाल के लिए फिर से अपने मुम्मों पर नोट रगड़ने लगी..

पर इन सबके बीच सारिका की हालत खराब थी...उसे वैसे ही केशव की बड़ी याद आ रही थी..और अपने सामने राणा को इतनी बेशर्मी से अपने लंड को रगड़ते देखकर और फिर उसके लंड की लंबाई को देखकर उसके अंदर धुंवा सा उठने लगा था..चूत की भट्टी में कोयले सुलगने लग गये थे..वहाँ से आँच निकलनी शुरू हो गयी...और उसकी जांघों के बीच चिपचिपाहट महसूस होने लगी उसे..

अपने मुम्मों से रगड़ने के बाद काजल ने एक और डेयरिंग दिखाई और उन्ही पैसों को अपनी चूत वाले हिस्से से भी रगड़कर एक ही झटके में नीचे फेंक दिया...

उसका डबल अटैक था ये...मुम्मे और चूत की रगड़ाई एक साथ...
-
Reply
07-22-2017, 02:50 PM,
#57
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
अब ये काम राणा तो कर नही सकता था...लड़कियों की तरह लड़कों के पास 2-3 चीज़ें तो होती नही है, यानी मुम्मे, चूत और गांड ...उनके पास तो ले देकर सिर्फ़ और सिर्फ़ लंड ही है...वो उसी पर फिर से पैसे रगड़कर अपनी चाल चलने की तैयारी करने लगा..और इस बार वो भी एक कदम और आगे बड़ गया...उसने पेंट की जीप खोली और पैसे अंदर डालकर उन्हे नंगे लंड से रगड़ दिया..

बिल्लू और गणेश ने ऐसा मुँह बनाया जैसे उन्हे वो देखकर घिन्न आ रही है...पर काजल और सारिका ही जानते थे की राणा की इस हरकत से उनकी चूत से कितनी चिंगारियाँ निकली हैं...

काजल तो कल वो सब अच्छी तरह से महसूस कर ही चुकी थी, पर फिर भी आज एक नये सिरे से और वो भी सबके सामने महसूस करने का एहसास अलग ही था...वो कल से भी ज़्यादा उत्तेजित महसूस कर रही थी अपने आप को..

और सारिका का तो पूछो ही मत...वो तो सोफे के कुशन वाले हत्थे पर दोनो तरफ टांगे करके ऐसे बैठ गयी जैसे घोड़ी पर बैठी है...और धीरे-2 हिलते हुए उसपर अपनी चूत रगड़ने लगी...और काजल को तो क्या, उस रूम मे बैठे हर इंसान को उसकी चूत से निकल रही खुश्बू आ रही थी...इतना तेल निकल रहा था उसकी चूत की फैक्टरी से...

उसकी हिलने की स्पीड काफ़ी स्लो थी, इसलिए पास बैठी काजल ही महसूस कर पा रही थी,क्योंकि दोनो सट कर बैठी हुई थी.....और काजल खुश थी की सारिका भी इस खेल के मज़े ले रही है...उसका मज़े लेना ज़रूरी था, क्योंकि वो अगर साथ नही देगी तो आज की रात वो सब नही कर पाएगी,जो उसने सोच रखा था...

काजल के टॉप का गला काफ़ी नीचे आ चुका था...और उसके मुम्मे आधे से ज़्यादा दिखाई दे रहे थे...

अगली चाल चलने के लिए उसने 4 हज़ार रुपय निकाले और उन्हे फिर से उनपर रगड़ने लगी...और अचानक उसे घूर-2 कर देख रहे बिल्लू को उसका निप्पल दिखाई दे गया..काजल ने आवेश मे आकर शायद कुछ ज़्यादा ही ज़ोर से अपनी टॉप के गले को नीचे खींच दिया था..पर जब तक वो गणेश को इशारे से बता पाता, उसका पिंक निप्पल अंदर जा चुका था..पर वो खुश था अपनी किस्मत पर की उसने वो मोटा सा निप्पल देख लिया...वो ये सोचने लगा की जब वो अपने दाँतों के बीच रखकर उसे चबायेगा और काजल सिसकारियाँ मारकर उसे अपनी छाती से दबा लेगी, कितना मज़ा आएगा...

इतना सोचते हुए उसके मुँह से लार निकल कर उसकी शर्ट पर गिर गयी...शायद सोचते-2 वो अपना मुँह बंद करना भूल गया था..

राणा भी समझ चुका था की गेम फँस चुकी है...दोनो के पास बड़िया पत्ते ही आए हैं..

पर उसे पैसे हारने की नही बल्कि जल्द से जल्द कल वाले खेल को पूरा करने की चिंता थी...इसलिए एक बार फिर से काजल को उकसाने के लिए वो बोला : "तुम चाहे जीतने भी जतन कर लो..अपने हुस्न का इस्तेमाल करके,चाहे जो भी टोटके अपना लो, मुझसे आगे नही निकल पाओगी ...''

अपनी पेंट की जीप तो वो खोल ही चुका था, और उसके लंड का उभार सिर्फ़ अंडरवीयर में क़ैद होकर सॉफ दिखाई दे रहा था..इस बार उसने अपने अंडरवीयर को नीचे खींचा और लंड को नंगा कर दिया...उसका काला नाग फ़ुफ़कारता हुआ सा सबकी नज़रों के सामने आ गया..

काजल वो देख चुकी थी, पर फिर भी उसके मुँह से आह निकल ही गयी...बिल्लू और गणेश के लिए ये कोई नया नही था, उन सबने मिलकर पहले भी कई रंडियों को चोदा था, इसलिए एक दूसरे का लंड देखना आम बात थी उनके लिए..

पर सारिका का क्या, वो तो नयी थी इन सबके लिए...उसने तो आज तक अपनी लाइफ मे सिर्फ़ और सिर्फ़ केशव का 6 इंची लंड ही देखा था..उसके लिए ऐसा 8 इंची लंड देखकना किसी बड़े झटके से कम नही था...और उपर से राणा ने उसे वापिस अंडरवीयर में धकेलने की भी कोई जहमत नही उठाई...पेंट की जीप की लंबाई के पीछे उसका लंड किसी खीरे जैसा लग रहा था..बस फ़र्क ये था की उसपर मोटी-2 नसें चमक रही थी..जिसे देखकर घोड़ी पर बैठी सारिका की स्पीड थोड़ी और तेज हो गयी और इस बार सबने उसकी हिलने की हरकत को नोट किया और समझ भी लिया की वो कर क्या रही है..

काजल ने उसे ऐसा ना करने के लिए कहा, क्योंकि सबकी नज़रें सारिका पर ही थी इस वक़्त..

काजल ने इस बार 4 हज़ार रुपय फेंक कर शो माँग ही लिया..क्योंकि उसे अंदर से लगने लग गया था की वो ये गेम हारने वाली है..

उसके पास पान का कलर था, और नंबर थे 4,5 और गुलाम...

राणा ने अपने पत्ते फेंके, उसके पास भी पान का कलर था था, और नंबर थे 2,9, और बेगम...

यानी राणा वो गेम जीत गया...उसने सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए..और उनमे से कुछ नोट उठा कर अपनी खड़े हुए लंड से छुआ दिए...और इस बार अपने लंड को पूरा बाहर खींचकर...और उसमे से निकल रहा प्रीकम उन नोटों पर लगाकर...

उसकी हँसी मे बिल्लू और गणेश भी उसका साथ दे रहे थे...शायद तीनों ने आँखों ही आँखों मे ये डिसाईड कर लिया था की आज की रात वो क्या करने वाले हैं..

और राणा को अपने लंड की कलम से लाल नोटों पर कुछ लिखता देखकर सारिका तो बावली हो गयी...उसने पहली बार उसकी लंबाई को पूरी तरह से देखा...वो काफ़ी लंबा था...केशव के मुक़ाबले काफ़ी लंबा..उसक तो दिल कर गया उसे अपने अंदर लेने का..

उसका तो मन किया की राणा के लंड को हाथ में लेकर उसकी मुठ मार दे, और उसकी खुली आँखों के सामने वो दृशय एकदम से आ गया जिसमे उसके कोमल हाथों में राणा का कड़क लंड था और वो उसे आगे पीछे कर रही थी


और ऐसा सोचते ही उसका हाथ अपने आप अपनी चूत की तरफ चला गया...और तब उसे पता चला की उसने वहाँ कितना कीचड़ फेला रखा है...

एक तो पहले से ही काजल ने आतंक मचा रखा था, अपने मुम्मे दिखाकर..उपर से सारिका को ऐसी हरकत पर उतरता देखकर सबकी आँखों की चमक और बढ़ गयी...ये सोचकर की शायद आज की रात इन दोनो को रंडियों की तरह चोदने का मौका मिलेगा..

पर वो कैसे होगा और कब होगा, इसके लिए पूरी योजना बनाने कि जरूरत थी...

और इसके लिए बिल्लू के पास एक प्लान था

बिल्लू : "यार, तुम लोग जिस तरह से कर रहे हो, वैसा तो मैने एक क्लब में भी होते हुए देखा है... और उस गेम को कहते हैं स्ट्रीप पोकर ...''

स्ट्रीप पोकर का नाम सुनकर सभी चोंक गये...वो समझ गये की वो क्या कहना चाहता है..यानी खेलते-२ हारने वाला अपने कपड़े भी उतारता जाता है

बिल्लू : "देखो, इसमें बुरा मानने वाली कोई बात नही है, राणा और काजल तो पहले से लगभग वही खेल खेलने में लगे हैं..और जैसा की सभी जानते हैं की इस खेल मे जो हारता जाएगा वो अपने पैसों के साथ-2 एक कपड़ा भी निकालता जाएगा..जब ये दोनो मज़ा ले रहे हैं तो हम लोग क्यो ना ले..बोलो..''

सभी उसके चेहरे को देखने लगे..गणेश और राणा को भला क्या प्राब्लम हो सकती थी...वैसे काजल भी तो वही सोच कर बैठी थी, पर खुलकर नही बोल सकती थी वो..और रही बात सारिका की तो उसे तो ऐसी ठरक चढ़ी हुई थी की इस वक़्त उससे तो कुछ भी करवा लो, वो मना नही करने वाली थी..

राणा : "मुझे कोई प्राब्लम नही है...ऐसे खेलने में मज़ा भी आएगा और जुआ भी चलता रहेगा..पर मेरी एक शर्ट है..इसमे सारिका भी हिस्सा लेगी..वो ऐसे बैठकर हम लोगो को नंगा होते देखकर मज़े नही ले सकती...उसे भी इस खेल मे उतरना होगा...''

सारिका तपाक से बोली : "मुझे कोई प्राब्लम नही है...''

उसकी उत्सुकतता देखकर सभी हंस दिए...और समझ भी गये की लोंडिया गरम है...वैसे भी खेल देखकर वो भी थोड़ा बहुत सीख ही चुकी थी

बस फिर क्या था...अगली गेम की तैयारी होने लगी...

अँग्रेज़ी स्टाइल का तीन पत्ती

स्ट्रीप पोकर
-
Reply
07-22-2017, 02:50 PM,
#58
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

राणा ने पत्ते बाँटने शुरू किए...सारिका उसकी बगल मे बैठी थी और उसके दूसरी तरफ गणेश था..जिसकी जांघे सारिका से टच कर रही थी..

सबने बूट के 500 डाल दिए..सारिका को काजल ने अपनी तरफ से पैसे उधार दे दिए थे, ताकि वो सबकी तरह खेल सके ..

सारिका अंदर से बड़ी ही रोमांचित थी...और वो खुशी उसके चेहरे पर सॉफ देखी जा सकती थी.

राणा, गणेश और बिल्लू तो जल्द से जल्द खेल के आख़िरी पड़ाव पर जाना चाहते थे, इसलिए किसी ने भी अगली ब्लाइंड का वेट ही नही किया, क्योंकि हार कर वो खुद नंगे होते और जीत कर उनको नंगा करते...दोनो ही सूरत मे उन्हे ही मज़ा मिलना था..

इसलिए सबसे पहले बिल्लू ने पत्ते उठा लिए..उसके पास 2,5,8 नंबर आए थे..बड़े ही बेकार थे वो..इसलिए उसने पेक कर दिया..और रूल के अनुसार उसे अपना एक कपड़ा उतारना था...उसने अपनी टी शर्ट उतार दी..और अब वो बनियान और पेंट मे बैठ था..उसका शरीर गोल मटोल सा था..पर था बड़ा ही गोरा, उपर से उसने अपनी बाजुओं और छाती के बालों को शेव करा रखा था..इसलिए चिकना और गोरा शरीर काफ़ी आकर्षित लग रहा था काजल और सारिका को..

अगली बारी काजल की थी, उसने तो ब्लाइंड ही चली..और 500 को पिछली बार की तरह ही मुम्मों से रगड़ कर नीचे फेंक दिया..

फिर गणेश की बारी आई, वो भी पहले से ही अपने पत्ते उठा चुका था..उसने झट से हज़ार का नोट नीचे फेंक दिया और वो भी अपने लंड से रगड़कर ..

उसे ऐसा करते देखकर राणा बोला : "साले, तुझे भी अपने टोटके दिखाने की पड़ी है..''

वो अपनी खीँसे निपोरता हुआ बोला : "भाई, जब टोटका इतना बड़ा हो तो करने में क्या बुराई है...''

''बड़ा'' शब्द सुनते ही काजल और सारिका एक दूसरे को देखकर मुस्कुरा दी...काजल सोचने लगी की क्या राणा से भी बड़ा होगा इसका..और सारिका ये सोचने लगी की केशव से भी बड़ा होगा क्या..

अब गणेश की बारी थी...उसके पत्ते भी बेकार थे...उसने भी अपनी शर्ट उतार दी...उसने तो नीचे बनियान भी नही पहनी थी...इसलिए टॉपलेस होकर बैठ गया वो...वैसे भी उसका कसरती जिस्म था...इसलिए अपने मसल्स दिखाकर वो दोनो को इंप्रेस भी कर रहा था...और वो हो भी रही थी..

वैसे भी लड़की को हमेशा कसरती जिस्म वाले या जिम मे बनी बॉडीस पसंद आती है...

अब सारिका की बारी थी...उसने अपने पत्ते उठा लिए...उसके पास सिर्फ़ बादशाह आया था, बाकी के दोनो पत्ते छोटे थे...वो थोड़ी परेशान सी हो गयी...बिल्लू पेक कर चुका था, इसलिए वो उठकर उसके पास आया और बोला : "कोई कनफुसन है तो मुझे दिखा दो...मैं बता दूँगा...''

उसने पत्ते दिखा दिए...और देखने के साथ ही वो बोला : "पेक कर दे...बेकार पत्ते हैं..''

वो इसलिए भी बोला की वो जल्द से जल्द उन दोनो को नंगा देखना चाहता था..और इसकी शुरूवात सारिका से कर दी..

सारिका का चेहरा शर्म से लाल हो गया...ये सोचकर की वो घड़ी आ गयी है जिसके बारे मे वो कुछ देर पहले सोच रही थी..

उसने तो एक येल्लो कलर का टॉप पहना हुआ था...और नीचे ब्रा थी..और नीचे उसने जीन्स पहनी थी..


अब वो सोच मे पड़ गयी की क्या उतारे...जीन्स तो सीधा उतार नही सकती थी वो...इसलिए उसने सकुचाते हुए अपने टॉप की डोरियाँ खोलनी शुरू कर दी..

कंधे पर बँधी दोनो डोरियों को जैसे ही उसने खोला, उसके टॉप का गला नीचे खिसक गया..और उसकी वाइट ब्रा में क़ैद कसे हुए मुम्मे सबके सामने प्रकट हो गये.

और एक पल के लिए पूरे कमरे में सन्नाटा छा गया...सिर्फ़ ठरकियों की गहरी साँसे सुनाई दे रही थी कमरे में

काजल : "अरे भई, चाल भी चलो अगली....''

तब जाके सभी को होश आया...राणा की बारी थी..उसने अपने पत्ते देखे..उसके पास इकके का पेयर आया था....उसकी आँखे चमक उठी..उसने 2 हज़ार की चाल चली और पैसे लंड से रगड़ कर डाल दिए नीचे..

अब फिर से काजल की बारी थी, जिसने अपने पत्ते भी नही देखे थे अभी तक...

उसने अपने पत्ते उठाए..और उसके पास बादशाह का पेयर आया...उसने भी खुश होते हुए पैसे दोबारा अपने मुम्मों से रगडे और नीचे फेंक दिए..

अब राणा ने पैसे फिर से डबल किए और चार हज़ार की चाल चल दी..

काजल के पास वैसे तो बड़ा पेयर था, पर उसे लगने लग गया की राणा के पास ज़रूर तीन पत्तों वाली कोई चीज़ आई है...उसने भी पैसे अपने मुम्मों और चूत से रगडे और उन्हे नीचे फेंक दिया..और शो माँग लिया..

काजल ने अपने पत्ते सामने रख दिए...

और उन्हे देखकर राणा ने भी मुस्कुराते हुए अपने पत्ते उजागर कर दिए..

बादशाह के पेयर पर इकके का पेयर भारी था..

वो जीत गया था..

और गेम के रूल के अनुसार वो हारने वाली काजल से अपनी मर्ज़ी का कोई भी कपड़ा उतरवा सकता था..

और वो ये भी अच्छी तरह से जानता था की उसने कल की तरह आज भी अंडरगार्मेंट्स नही पहने हुए..

इसलिए उसने सबसे पहले उसे अपने सूट का टॉप उतारने को कहा..
-
Reply
07-22-2017, 02:50 PM,
#59
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
काजल तो उसके सामने खुल ही चुकी थी...बस थोड़ी बहुत झिझक दूसरो के सामने कपड़े उतारने की थी..और वैसे भी ये आज की रात तो होना ही था...

इसलिए उसने एक गहरी साँस ली और आँखे बंद करके एक ही झटके में अपने सूट की कमीज़ को पकड़ा और उसे सिर से घुमा कर उतार दिया..

और अब काजल थी सबके सामने...उपर से नंगी.

गणेश और बिल्लू ने तो सोचा भी नही था की उसने अंदर ब्रा भी नही पहनी हुई...काजल ने अपने बालों से उन्हें छुपाने की कोशिश की आर उसके बालों की चादर के पीछे उसके मुम्मे उभरकर और भी सेक्सी लग रहे थे

उसके मोटे और लचीले मुम्मे देखकर उन दोनो की तो आँखे ही फटी रह गयी...जिन्हे देखकर उन्होने ना जाने कितनी बार मूठ मारी थी...और गणेश ने तो अपनी बीबी की चूत भी कितनी बार ये सोचकर मारी थी की उसके सामने काजल नंगी लेटी है...वही काजल आज अपने मुम्मों की नुमाइश लगाकर उनके सामने बैठी थी...

उसके तने हुए बूब्स देखकर उन दोनो के मुँह मे पानी और लंड के सिरे पर पानी की बूँद उभर आई..

जो जल्द ही एक लावे का रूप लेकर उसपर बरसने वाली थी...

अभी तो खेल शुरू ही हुआ था.

एक गेम में ही एक टॉपलेस होकर और दूसरी सिर्फ़ ब्रा में उनके सामने थी..

अगली 2-3 बाजियों मे तो पूरी नंगी करने का प्लान था उनको..

उन सभी चुप देखकर काजल से रहा नहीं गया

काजल : "अरे, तुम तो ऐसे देख रहे हो जैसे कभी किसी के बूब्स देखे नही है...''

वो शायद थोड़ा मज़े लेने के मूड में आ चुकी थी...जब इतना कुछ खुलकर हो ही रहा था तो ऐसे चुप होकर क्यो बैठे..वैसे भी काजल ने तो सोचा था की उसे और सारिका को ऐसे देखकर वो ज़रूर अपने दिल की ठरक निकाल कर बाहर रख देंगे..पर वो तो गूंगे कुत्तों की तरह अपनी जीभ निकाले उन्हे आँखे फाड़ कर देखने में लगे थे..

बिल्लू संभलता हुआ बोला : "जितने भी बूब्स देखे है काजल, तुम जैसे नही थे वो...ये जो तुम्हारे बूब्स है ना, इन्हे हम सभी ने अपनी आँखो के सामने बड़े होते हुए देखा है...पहले नींबू जैसे थे, छोटे-2 ...और शुरू में तो तुम उनपर ब्रा भी नही पहनती थी..इसलिए ये तुम्हारे लाल निप्पल दूर से ही दिखाई देते थे..फिर ये और बड़े हुए..मौसम्मी जितने ...पर ब्रा पहनने के बाद भी तुम्हारे ये नुकीले निप्पल हमें दूर से ही दिख जाते थे...और पता है, हम सभी चौराहे पर खड़े होकर हमेशा यही बात करते थे की तुम हो तो चुपचाप रहने वाली पर अंदर से तुम बड़ी गर्म होगी, क्योंकि ये खड़े हुए निप्पल निशानी होती है अंदर की आग की...और देख लो, हमारी बातें सच साबित हुई, आज जिस तरह से तुम हमारे सामने बैठी हो, वो यही साबित करता है की तुम शुरू से ही काफ़ी घुन्नी किस्म की लड़की थी, जो अब उभर कर सामने आई है..''

वो साला एक ही साँस में सब कहता चला गया...जो सही भी था..

काजल उसकी बात सुनकर मुस्कुराती रही...उसकी उंगलियाँ अपने आप अपने निप्पल्स को दबा कर उन्हे सुलाने की असफल कोशिश कर रही थी,पर हमेशा की तरह आज भी वो नाकाम थी.

ये तो उसकी प्राब्लम थी,जब से उसके नींबू उगने शुरू हुए थे, उसने भी अपने अंदर आ रहे बदलाव महसूस किए थे, और उन माँस से भरे लचीले हिस्से को वो अकेले मे बैठकर दबाती रहती थी, और सारिका के संपर्क मे आने के बाद जब उसे पता चला फिंगरिंग के बारे में तो नीचे से चूत को और उपर से अपने नींबुओं को मसलने में जो असीम आनंद उसे प्राप्त होता था, उसे तो वो आज भी शब्दों में बयान नही कर सकती थी...रोजाना नहाते हुए, शावर के नीचे नंगी खड़े होकर, गरमा गर्म पानी को अपने बदन पर महसूस करते हुए वो जब उपर और नीचे की ताल मिलाती थी तो वो एक आग का शोला बन जाती थी...और भरभराकर झड़ती थी उस गर्म पानी के नीचे..

और उन्ही ख़यालों मे डूब कर वो स्कूल जाती, और शायद तभी से इन ठरकियों की नज़र उसपर थी, क्योंकि स्कूल या कहीं भी जाते हुए उसके निप्पल्स हमेशा खड़े ही रहते थे..

और फिर उन नींबुओं को दबा-दबाकर उसने मौसम्मी बना दिया...और रसीला भी...और आज भी उसकी वो आदत बरकरार है, सोते हुए और नहाते हुए वो आज भी उन्हे दबाना और मसलना नही भूलती..

पर अब उसकी इस परेशानी से उसे छुटकारा मिल चुका था...पहले तो केशव के द्वारा और अब शायद इनके हाथों का कमाल चलने वाला था उसके बूब्स पर...क्योंकि जिस तरह का खेल चल रहा था, उसके हिसाब से तो जल्द ही उन सबके हाथ रेंगने वाले थे उसपर..

खैर, अगली गेम शुरू हुई और पत्ते बाँटे गये...

राणा की बारी थी पहले, उसके पास इक्का ही आया था बस, उसने फ़ौरन पेक कर दिया..और साथ ही अपनी पेंट भी उतार दी, जुर्माने के तौर पर..

अब वो सिर्फ़ टी शर्ट और अंडरवीयर में बैठा था...और अंडरवीयर में उसका खड़ा हुआ लंड दूर से ही चमक रहा था, जिसे देखकर सारिका और काजल के मुँह में पानी आ गया..

अगली बारी बिल्लू की थी...और लगातार दूसरी बार भी उसके पास बेकार पत्ते ही आए...उसने तो सोचा था की शायद इस बार अच्छे पत्ते आ जाए और जीत जाए ताकि हारने वाली काजल या सारिका से अपनी मर्ज़ी का कोई भी कपड़ा उतरवा सके या कुछ और करवा सके..

उसने पत्ते फेंक दिए और अपनी पेंट उतार दी..अब वो जोक्की और बनियान में ही था बस..

सारिका ने पत्ते देखे, उसके पास 2 का पेयर था...अब इतना तो वो समझ ही चुकी थी की एक जैसे दो पत्ते आने पर वो चाल चलने लायक होते हैं, इसलिए उसने फ़ौरन हज़ार का नोट लिया और चाल चल दी..अपनी ब्रा से ढके मुम्मों से रगड़कर ..

गणेश ने पत्ते देखे, उसके पास भी कुछ खास नही था..सिर्फ़ इक्का, बादशाह और 7 नंबर थे...खेलने को वो इनपर भी खेल सकता था, पर जल्दी नंगा होकर शायद वो अपने लंड को उन सुंदरियों के सामने रखना चाहता था, इसलिए उसने भी पेक कर दिया और नीचे से पेंट उतार दी...बनियान तो उसने पहनी नही थी, इसलिए वो अब टॉपलेस होकर सिर्फ़ अपने अंडरवीयर में था..उसके कसरती जिस्म को देखकर काजल और सारिका के जिस्म से गर्मी निकल रही थी...शायद ये सोचकर की उसके मसल्स को वो अपने नाज़ुक हाथों से रगडेंगी..
-
Reply
07-22-2017, 02:50 PM,
#60
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
अब बारी थी काजल की, सारे लड़के तो पेक हो चुके थे और सिर्फ़ सारिका की चाल आई थी...अब उसके साथ भला वो क्या मुकाबला करती,इसलिए उसने ब्लाइंड चलने के बदले पत्ते उठाना सही समझा..और पत्ते उठाते ही उसकी आँखे चमक उठी..उसके पास कलर आया था, ईंट यानी डायमंड का, नंबर थे 3,8 और बादशाह..

इतने बाड़िया पत्तों से तो वो अच्छे ख़ासे पैसे जीत सकती थी..पर अपनी ही सहेली से भला क्या खेले वो..फिर भी उसने एक चाल चल ही दी..2 हज़ार बीच मे फेंक कर..

अब अपने छोटे से पत्तों के उपर दूसरी चाल आते देखकर सारिका समझ चुकी थी की काजल के पास भी बढ़िया पत्ते आए हैं...वैसे भी चाल चलने लायक पत्तों में सबसे छोटे पत्ते 2 का पेयर ही होते हैं...इसलिए उसने सरेंडर करना ही बेहतर समझा और 2 हज़ार फेंकते हुए अपने पत्ते नीचे कर दिए और शो माँग लिया..

और दूसरी तरफ काजल को पता था की सारिका जैसी कच्ची खिलाड़ी उसके सामने टिक नही पाएगी...और उसके मुक़ाबले के पत्ते सारिका के पास आना तो नामुमकिन ही था...इसलिए उसकी जीत तो सुनिश्चित थी..और हारने के बाद वो अगर सारिका की जीन्स उतरवाती तो उसमे वो मज़ा नही आता जो वो काम करवाने से आने वाला था जो वो सोच रही थी...

सारिका के पत्ते देखकर वो मुस्कुरा दी और अपने पत्ते सामने रख दिए...उसके पत्तों की सबने तारीफ की और सारिका की तरफ आस भारी नज़रों से देखने लगे..शायद उसकी सुडोल जांघे और नंगी टांगे देखने का टाइम आ गया था...

लड़की जब एक-2 करके अपने जिस्म के कपड़े उतारती है तो उसे देखकर क्या मज़ा मिलता है वो एक लड़का ही समझ सकता है...और यही मज़ा लेने के लिए इस वक़्त सभी हरामी अपनी आँखे फाड़े बैठे थे वहाँ...वरना जिस तरह की बेशर्मी शुरू हो चुकी थी, उसके बाद तो वहाँ कब का ग्रूप सेक्स शुरू हो चुका होता..उन सभी को पता था की आख़िर में होना वही है,कोई रोकने वाला भी नही है, लड़कियाँ भी तैयार ही हैं...तो क्यों ना पहले मज़े ले-लेकर उनके जिस्म से परत दर परत कपड़े उतरने का मज़ा ले और बाद में पूरे मज़े..

पर काजल के दिमाग़ में जो शैतानी आ चुकी थी, उसके बारे में तो शायद उन्होने सोचा भी नही था

सारिका जैसे ही शरमाती हुई उठी और अपनी जीन्स के बटन खोलने लगी, काजल ने उसे रोक दिया और बोली : "नही सारिका, ये नही...मुझे तुमसे कुछ और करवाना है..''

ये सुनकर सारिका के साथ-2 सभी चोंक गये..

सारिका ने कांपती आवाज़ में पूछा : "क ... क्या करना होगा मुझे ....''

वो सोच रही थी की शायद वो मेरी जीन्स के बदले पहले ब्रा उतारने को कहेगी...ताकि वो भी उसकी तरह टॉपलेस हो जाए और देखने वालों को मज़ा आए..

पर ऐसा कोई विचार नही था काजल के मन में .

काजल बोली : "तुम्हे मेरी स्लेव बनना पड़ेगा...''

सारिका : "स्लेव ???? यानी तुम्हारी गुलाम ....??''
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Hindi Kamuk Kahani बरसन लगी बदरिया sexstories 16 11,152 02-07-2019, 12:53 PM
Last Post: sexstories
Aunty ki Chudai आंटी और उनकी दो खूबसूरत बेटियाँ sexstories 48 55,528 02-07-2019, 12:15 PM
Last Post: sexstories
Star Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी sexstories 47 14,538 02-07-2019, 11:54 AM
Last Post: sexstories
Star Nangi Sex Kahani अय्याशी का अंजाम sexstories 69 19,104 02-06-2019, 04:54 PM
Last Post: sexstories
Star non veg story झूठी शादी और सच्ची हवस sexstories 34 18,789 02-06-2019, 04:08 PM
Last Post: sexstories
Star Chodan Kahani हवस का नंगा नाच sexstories 35 25,747 02-04-2019, 11:43 AM
Last Post: sexstories
Star Indian Sex Story बदसूरत sexstories 54 35,868 02-03-2019, 11:03 AM
Last Post: sexstories
Star bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी sexstories 259 110,287 02-02-2019, 12:22 AM
Last Post: sexstories
Indian Sex Story अहसास जिंदगी का sexstories 13 9,876 02-01-2019, 02:09 PM
Last Post: sexstories
Star Kamukta Kahani कलियुग की सीता—एक छिनार sexstories 21 40,496 02-01-2019, 02:21 AM
Last Post: asha10783

Forum Jump:


Users browsing this thread: 4 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


www.marathi paying gust pornbhan chudwake bhai ka ilaj kiya sex storybeta nai maa ko aam ke bageche mai choadagande gale anty sxy khaneyXxxviboe kajal agrval porn south inidanravina tadan sex nade patapornpics.comsex babaGangbang barbadi sex storieswww.sexbabapunjabi.netkhala ko raat me masaaje xxx kahaniMastram.net antarvanna chumma lena chuchi pine se pregnant hoti hai ya nahinenu venaka nundi aaninchanu mom sex storyland se chudai gand machal gai x vidiogandu hindi sexbabaKatrina kaif Sexbabaकैटरीना कैफ सेकसी चुचि चुसवाई और चुत मरवाईaunty ki xhudai x hum seterkachha pehan kar chodhati hai wife sex xxxBaba ka koi aisa sex dikhaye Jo Dekhe sex karne ka man chal Jaye Kaise Apne boor mein lauda daal Deta Hai BabaXxx bhabhi Mojbur rap dalalcache:SsYQaWsdDwwJ://mypamm.ru/Thread-long-sex-kahani-%E0%A4%B8%E0%A5%8B%E0%A4%B2%E0%A4%B9%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%82-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A8?page=17 papa ny soty waqt choda jabrdaste parny wale storeAakhir iccha maa sex storiesJacqueline fernandez nude sex images 2019 sexbaba.nethindisexstory sexbaba netLandkhor sex kahaniDASE.LDKE.NAGE.CHUT.KECHUDAE.sonaroka tv actress nude sexbsbasexbaba - bajirimpi xxx video tharuinladies ko karte time utejit hokar pani chod deti he video.comMausi mausa ki chudai dekhi natak kr keKatrina kaif sexbabapicsVelamma sex story the seducerJo kapde Phadke Kaise chudwati 1 sexy videodidi "kandhe par haath" baith geeli baja nahin sambhalववव बुर में बोतल से वासना कॉमUnblance hokr girne se thyies me jalan kyo hoti hmaa ki chudai malish kr kantarvasnaunderwearnewsexstory.com/chhoti bahan ke fati salwar me land diyasasur gi ne sasu maa ssmazkar bahuo ko codaSex krte time andr ghusane me ldkiyo ko hone wale dard se kese smhala jayemom ke mate gand ma barha lun urdu storyकलियुग कि कमिनि मा हिंदी सेक्स कथाಹಸ್ತಮೈತುನ Nind.ka.natak.karke.bhabhi.ant.tak.chudwati.rahi.kahaniyaChoti Betiko sulaya phir chudai comपुच्चीत लंड टाकलाbhai ne apni behno ki thukai kiMoti gand vali mami ko choda xxxantarvasna kaam nikalne ke liye netaji se chudwaieesha rebba fake nude picsकच्ची उम्र में भाई ने गाली दे दे कर बुर को छोड़ कर कहानी हिंदीbanayenge sexxxxchut me se khoon nikale hua bf xxx images new 2019punam bajwa ki nagi nude pasnausikhiye mms sex video desiNidhi bidhi or uski bhabhi ki chudai mote land se hindi me chudai storyTaarak mehta ka hot chasma Babita ki panty dikhiझटपट देखनेवाले बियफ विडीयोMaje dar chudbai videoSauth ki hiroin ki chvdai ki anatarvasna ki nangi photos Nude star plus 2018 actress sex baba.commoshi and bhangh sexvideoWww.सेक्सी कहाणी मराठी पुच्ची सील बंदmama ko chodne ke liye fasairajkumari ke beti ne chut fadixxx mom sistr bdr fadr hindi sex khaniberahem sister ke sath xxnxxchuut ka pane dallkar bhosda banaya hinde sex storysex story pati se ni hoti santust winter ka majhamy neighbour aunty sapna and me sex story in marathimere pahad jaise stan hindi sex storyTollywood actress nude pics in sex babaWife ko malum hua ki mujhe kankh ke bal pasand haikriti sanon porn pics fake sexbaba barish ki raat car main sexrandisexstorys.como ya o ya ahhh o ya aaauchmummy chususasur kamina Bahu Nagina